मंगलसूत्र-सिंदूर को लेकर सवाल उठाने वालों को सांसद और अभिनेत्री नुसरत जहां ने दिया करारा जवाब

0

बंगाली फिल्मों की स्टार और तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़कर पहली बार सांसद बनीं नुसरत जहां 25 जून को लोकसभा सदस्यता की शपथ लेने के बाद से ही चर्चा में हैं। साड़ी, सिंदूर और मंगलसूत्र पहनकर संसद में शपथ लेने को लेकर एक मुस्लिम धर्मगुरु द्वारा आपत्ति जताए जाने के बाद नुसरत जहां ने एक विस्तृत बयान जारी कर जोरदार पलटवार किया है।

PTI File

बता दें कि नुसरत ने हाल ही में अपने ब्यॉयफ्रेंड निखिल जैन से शादी की है। शादी के बाद 25 जून को नुसरत पहली बार संसद पहुंचीं और शपथ ली। इस दौरान उनके गले का मंगलसूत्र, मांग में सिंदूर और हाथों में चूड़ी पहनना चर्चा का विषय बन गया। संसद सत्र में नुसरत पूरी तरह पारंपर‍िक अंदाज में नजर आईं थीं। उन्होंने माथे पर स‍िंदूर, हाथों में मेहंदी और चूड़ा पहना हुआ था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नुसरत के इस अंदाज पर कुछ मुस्लिम कट्टरपंथियों ने सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि माथे का सिंदूर, मंगलसूत्र गैर-इस्लामिक है। मुस्लिम कट्टरपंथियों की इस टिप्पणी पर नुसरत जहां ने जोरदार जवाब दिया है। नुसरत ने कहा कि उन्होंने वही किया, जो उनके दिल ने उनसे कहा। उन्होंने एक विस्तृत बयान जारी कर कहा कि वह संयुक्त भारत का प्रतिनिधित्व करती हैं।

टीएमसी की नवनिर्वाचित सांसद जहां ने ट्विटर पर कहा, ‘मैं संयुक्त भारत का प्रतिनिधित्व करती हूं जो जाति, पंथ और धर्म की बाधाओं से परे है।’ उन्होंने यह भी कहा कि वह अब भी मुस्लिम हैं और सभी धर्मों का सम्मान करती हैं। जहां ने कहा, ‘मैं अभी भी मुस्लिम हूं और किसी को इस बात पर कमेंट नहीं करना चाहिए कि मैं क्या पहनूंगी। श्रद्धा, पहनावे से परे है और सभी धर्मों के अमूल्य सिद्धांतों पर विश्वास करने और अभ्यास करने के बारे में अधिक है।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, संसद में 25 जून को शपथ के दौरान सिंदूर और चूड़ी पहनने पर आलोचकों ने उन्हें गैर-इस्लामिक बताया था और मुस्लिमों के एक ग्रुप ने उनके खिलाफ फतवा जारी किया था। जहां ने अपने सोशल मीडिया पोस्ट के कैप्शन में लिखा, ‘किसी भी धर्म के कट्टर लोगों द्वारा की गई टिप्पणियों पर ध्यान देना या प्रतिक्रिया देना केवल घृणा और हिंसा को जन्म देता है, और इतिहास इस बात की गवाही देता है।’

बता दें कि 29 साल की नुसरत जहां ने हाल ही में टर्की में बिजनेसमैन निखिल जैन के साथ शादी की थी। शादी में व्यस्तता के चलते नुसरत संसद सत्र के पहले द‍िन शपथ लेने नहीं पहुंच सकी। नुसरत जहां ने पश्चिम बंगाल की बशीरहाट सीट से तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था और 3.5 लाख से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की थी।

बशीरहाट से सांसद नुसरत जहां शपथ के दौरान पूरी तरह से पारंपरिक सफेद रंग की बंगाली तांत की साड़ी में नजर आईं थीं। नुसरत ने बांग्ला भाषा में शपथ ग्रहण की और इसके बाद लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला के पैर छूकर आशीर्वाद लिया था। स्पीकर ने भी मुस्कुराकर हाथ जोड़कर दोनों का अभिवादन किया। शपथ के बाद उन्होंने वंदे मातरम भी बोला था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here