नवीन जिंदल के प्रयासों से कुरुक्षेत्र में देश का दूसरा तिरुपति बालाजी मंदिर बनकर तैयार, पूर्व कांग्रेस सांसद के कार्यकाल में रखी गई थी मंदिर की आधारशिला, सीएम मनोहर लाल खट्टर आज करेंगे उद्घाटन

0
5

देश का दूसरा तिरुपति बालाजी मंदिर हरियाणा के धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में बनकर तैयार हो गया है। रविवार (1 जुलाई) यानी आज हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ब्रह्मसरोवर के पूर्वी तट पर स्थित इस मंदिर का उद्घाटन करेंगे और पूजा अर्चना करेंगे। शाम करीब चार बजे मुख्यमंत्री द्वारा मंदिर का उद्घाटन किए जाने के पश्चात देश-दुनिया के श्रद्धालु यहां भगवान के दर्शन कर सकेंगे। बता दें कि तिरुपति बालाजी का पहला मंदिर आंध्र प्रदेश में है। अब उत्तर भारत के लोगों को भगवान श्रीविष्णु की पूजा करने के लिए आंध्रप्रदेश जाने की जरुरत नहीं होगी।

इस बीच तिरुपति मंदिर के कपाट खुलने से पहले कुरुक्षेत्र में श्रेय लेने की जंग शुरू हो चुकी है। कांग्रेस के प्रदेश महासचिव इस मंदिर को धर्मक्षेत्र में लाने का भगीरथ प्रयास तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और सांसद नवीन जिंदल को दे रहे हैं। दैनिक भास्कर के मुताबिक हरियाणा कांग्रेस कमेटी के महासचिव पवन गर्ग ने कहा कि मंदिर की आधारशिला तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और सांसद नवीन जिंदल के प्रयासों से रखी गई थी। उन्होंने कहा कि 14 अगस्त 2012 को भव्य आयोजन कर तिरुपति बालाजी मंदिर की नींव रखी गई थी।

साथ ही उन्होंने दावा किया कि मंदिर के लिए सांसद नवीन जिंदल ने 1 करोड़ रुपए की दान राशि तिरुमाला ट्रस्ट को दी थी। गर्ग ने कहा कि सांसद नवीन जिंदल के प्रयासों व दूरदर्शी सोच के चलते ही आज यह मंदिर साकार हो गया है। महासचिव पवन गर्ग ने कहा कि तिरुपति बालाजी जी का मंदिर विश्व में दूसरा मंदिर है। उन्होंने कहा कि मंदिर में भगवान श्री बाला जी की प्राण प्रतिष्ठा के बाद से कुरुक्षेत्र के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

दरअसल मंदिर के लिए भूमि आवंटन, भूमिपूजन और आधारशिला पूर्व की कांग्रेस सरकार के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा रखा गया था, जबकि उद्घाटन मौजूदा सीएम मनोहर लाल खट्टर करने वाले हैं। नवनिर्मित तिरुपति बालाजी मंदिर में मंत्रोच्चारण, वेदों और दक्षिण भारतीय परंपरा के अनुसार 28 जून से मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम चल रहा है।

अब रविवार यानी आज मुख्यमंत्री मनोहर लाल शाम चार बजे मंदिर का उद्घाटन करेंगे। भगवान वेंकटेश्वर तिरुपति बालाजी मंदिर को दर्शन के लिए सुबह 6 बजे से लेकर रात्रि 9 बजे तक श्रद्धालुओं के लिए खोला जाएगा। मंदिर के बाहर जय-विजया की प्रतिमाएं भी स्थापित की जाएंगी। धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र के दर्शनों के लिए आने वाले देश-विदेश के पर्यटकों के लिए यह मंदिर भी आकर्षण का केंद्र बनेगा।

ब्रह्मसरोवर के पूर्वी तट पर भगवान तिरुपति बालाजी मंदिर की स्थापना की गई है, जिसे हू-ब-हू आंध्र प्रदेश के तिरुमला तिरुपति देवास्थानम मंदिर की तर्ज पर बनाया गया है। इस मंदिर के निर्माण में लगा 1500 टन पत्थर भी आंध्र प्रदेश से मंगाया गया है। जबकि वहीं के वास्तुकारों ने इसे भव्य रूप दिया है। इस पर 34 करोड़ रुपये का बजट खर्च हुआ है, जिसमें से 12 करोड़ रुपये का दान एन सेतिया फाउंडेशन लंदन द्वारा किया गया है।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here