टिक टॉक यूजर्स के लिए बुरी खबर, कोर्ट के आदेश के बाद गूगल ने प्ले स्टोर से हटाया एप

0

मद्रास हाईकोर्ट की ओर से चाइनीज मोबाइल वीडियो शेयरिंग ऐप टिक टॉक को देश में बैन करने की मांग का पालन करते हुए गूगल ने भारत में टिक टॉक को ब्लॉक कर दिया है। यानी अब कोई भी गूगल प्लेस्टोर से टिक टॉक ऐप डाउनलोड नहीं कर पाएंगे।

टिक टॉक

सोमवार को तमिलनाडु की उच्चतम न्यायालय ने मद्रास उच्च न्यायालय के टिकटॉक एप पर प्रतिबंध लगाने के आदेश पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था। इसके बाद गूगल ने प्लेस्टोर से टिक टॉक को हटा दिया है। हमेशा ही यह ऐप अपने विडियो कंटेंट को लेकर विवादों और सवालों के घेरे में रहा और अब इसे बैन कर दिया गया है।

मद्रास हाईकोर्ट ने 3 अप्रैल को केंद्र से टिकटॉक पर बैन लगाने को कहा था साथ ही कोर्ट ने कहा था कि टिकटॉक ऐप्प पॉर्नोग्राफी को बढ़ावा देता है और बच्चों को यौन हिंसक बना रहा है

टिकटॉक ऐप्प पर यह फैसला तब आया जब एक व्यक्ति ने इस पर प्रतिबंध के लिए एक जनहित याचिका दायर की। आईटी मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, केंद्र ने उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए Apple और Google को एक पत्र भेजा था। सरकार ने गूगल और एपल को मद्रास उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करने को कहा है जिसमें लोकप्रिय मोबाइल एप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाया है।

टिक टॉक एक सोशल नेटवर्किंग प्लैटफॉर्म है, जो भारत में काफी लोकप्रिय हो गया है। इस ऐप पर यूजर्स अपने शॉर्ट वीडियो स्पेशल इफेक्ट्स के साथ बनाकर उन्हें शेयर कर सकता है। ऐप के जरिए बॉलीवुड के डायलॉग, जोक्स, गानों पर यूजर्स वीडियो बनाते हैं। इतना ही नहीं इसमें लिप-सिंक से लेकर लोकप्रिय गानों और म्यूजिक पर डांस भी करते हैं। भारत में इसके करीब 54 मिलियन प्रति महीने एक्टिव यूजर्स हैं और इसका स्वामित्व चीन की एक कंपनी बाइटडांस कंपनी के पास है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here