VIDEO: विपक्षी सांसद को बोलने का मौका दिए जाने से नाराज स्पीकर ने केंद्रीय मंत्री को दी नसीहत, बोले- ‘आज्ञा देने का काम मेरा है, आपका नहीं’

0

लोकसभा में नवनिर्वाचित स्पीकर ओम बिरला अब तक सुचारू ढंग से सदन को चलाने में सफल रहे हैं। चर्चा के दौरान गतिरोध पैदा करने वाले सांसदों को स्पीकर कई बार फटकार लगा चुके हैं। इस बीच सोमवार को स्पीकर ने केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को चर्चा के दौरान नसीहत दे डाली और आसन के अधिकार भी उनके याद करा दिए। सोशल मीडिया पर यह वीडियो जमकर वायरल हो रहा है।

दरअसल, सोमवार (1 जुलाई) को लोकसभा में ‘केंद्रीय शैक्षणिक संस्था (शिक्षकों के काडर में आरक्षण) विधेयक-2019′ पर चर्चा का जवाब देते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने जब एक सदस्य को अपनी बात रखने का मौका दिया, तब अध्यक्ष ओम बिरला ने उन्हें टोकते हुए कहा कि ‘मंत्री जी आज्ञा देने का काम मेरा है, आपका नहीं है।’

निशंक जब विधेयक पर चर्चा का जवाब दे रहे थे तब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सुप्रिया सुले उनसे कुछ कहने के लिए खड़ी हुईं तो मंत्री यह कहते हुए बैठ गए कि ‘आप कुछ कहना चाहती हैं, कहिए।’ सुप्रिया के बात रखने के बाद बिरला ने कहा कि ‘मंत्री जी, आज्ञा देने का काम मेरा है, आपका नहीं है।’ बिरला के इस बयान के बाद सदन में ठहाके सुने गए। विधेयक पारित होने के बाद उन्होंने शून्य काल शुरू करने का निर्देश दिया।

उन्होंने सदस्यों से आग्रह किया कि आगे से शून्यकाल में बोलने के लिए अपने विषय आदि को लेकर आसन के पास नहीं आए, बल्कि महासचिव वाली मेज पर अधिकारियों को दें और इस तरह से उनका संदेश आसन तक पहुंच जाएगा। इसके बाद भी एक सदस्य आसन के निकट पहुंच गए और इस पर अन्य सदस्यों को हंसते हुए देखा गया। बिरला ने यह भी कहा कि यह परंपरा वर्षों से रही है, इसे जाने में समय लगेगा।

बता दें, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को हालही सदन में विभिन्न सदस्यों की वाहवाही मिली थी, जिन्होंने लगातार साढ़े तीन घंटे आसन पर बैठकर कार्यवाही संचालित करने और नए सदस्यों समेत अधिक से अधिक लोगों को बोलने का मौका देने के लिए स्पीकर की प्रशंसा की। सदन में शून्यकाल के दौरान तृणमूल कांग्रेस के सौगत राय ने कहा कि स्पीकर भूख भी भूल गए हैं और लगातार सदन की कार्यवाही का संचालन कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘यह इस बात का उदाहरण है कि स्पीकर को किस तरह काम करना चाहिए।’ साथ ही सदन में शून्यकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी के गणेश सिंह और राजेंद्र अग्रवाल समेत अन्य सदस्यों ने भी अध्यक्ष बिरला की प्रशंसा करते हुए कहा था कि उन्होंने आज कई नए सदस्यों को शून्यकाल में बोलने का अवसर दिया है और नई परंपरा शुरू की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here