VIDEO: सीरीज जीत के बाद रवि शास्त्री ने ‘सचिन तेंदुलकर’ पर कसा तंज, ट्रोलर्स ने सुनाई खरी-खोटी

0

भारतीय क्रिकेट टीम ने 71 साल के लंबे इंतजार को खत्म करते हुए आस्ट्रेलियाई सरजमीं पर पहली बार टेस्ट श्रृंखला जीतकर सोमवार (7 जनवरी) को अपने क्रिकेट इतिहास में स्वर्णिम अध्याय जोड़ा। ऑस्ट्रेलिया में भारतीय क्रिकेट टीम ने 72 साल बाद आस्ट्रेलिया में सीरीज जीतकर इतिहास रचा दिया। यह भारतीय टीम की आस्ट्रेलिया के खिलाफ उसी के घर में पहली सीरीज जीत है। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर चौथा और अंतिम टेस्ट मैच खराब मौसम और बारिश के कारण ड्रा छूटा और इस तरह से भारत श्रृंखला 2-1 से अपने नाम करने में सफल रहा।

रवि शास्त्री

इसके साथ ही उसने बोर्डर गावस्कर ट्राफी भी अपने पास बरकरार रखी। भारत ने 2017 में अपने घरेलू मैदानों पर श्रृंखला 2-1 से जीतकर यह ट्राफी जीती थी। भारत ने आजादी मिलने के कुछ दिन बाद पहली बार 1947-48 में लाला अमरनाथ की अगुवाई में आस्ट्रेलिया का दौरा किया था। तब उसका सामना सर डान ब्रैडमैन की अजेय आस्ट्रेलियाई टीम से था। तब से लेकर अब जाकर भारत का श्रृंखला जीतने का इंतजार विराट कोहली की टीम ने खत्म किया।

रवि शास्त्री ने ‘सचिन तेंदुलकर’ पर कसा तंज

भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट श्रृंखला में जीत के बाद अपने चिर-परिचित अंदाज में आलोचकों पर निशाना साधते हुए कहा कि सैकड़ो मील दूर से आने वाली नाकारात्मक प्रतिक्रिया ‘बंदूक की गोली के धुंए’ की तरह उड़ गई। टेस्ट श्रृंखला में जीत के बाद शास्त्री ने दिग्गज सुनील गावस्कर सहित उन सभी आलोचकों पर निशाना साधा जिन्होंने टीम के चयन और अभ्यास कार्यक्रम पर सवाल उठाया था।

इस प्रेस कॉन्फेंस के दौरान रवि शास्त्री ने ऐसा बयान दे दिया जिसमें उन्होंने उन पुरानी भारतीय टीमों पर निशाना साधा है जिसमें तमाम महान खिलाड़ी शामिल थे। शास्त्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मौजूदा टीम को बेस्ट टीम करार दिया। साथ ही उन्होंने बिना नाम लिए अपने जमाने के दिग्गज खिलाड़ी और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर पर तंज कसते हुए निशाना साधने से नहीं चुके।

शास्त्री ने कहा कि ये टीम कोई ‘भगवान’ या देवताओं की टीम नहीं है, और ना ही इस टीम में कोई सीनियर या जूनियर है। बल्कि यह एक ऐसी भारतीय टीम है जो कि कहीं ये भी आकर सीधे देश के लिए मैच जीतना चाहती है। उन्होंने कहा कि ये उनका दृढ़ निश्चिय है। इस सोच के साथ ये टीम इस सीरीज में खेली। इसलिए मुझे अपने लड़कों पर गर्व है।

भगवान या देवताओं वाली टिप्पणी कर रवि शास्त्री ने बिना नाम लिए ही सही सचिन सहित पुरानी टीमों पर निशाना साधा है। क्रिकेट के क्षेत्र में सभी इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि क्रिकेट का भगवान सचिन तेंदुलकर को ही कहा जाता है। यही वजह है कि सचिन के फैंस उन्हें ट्रोल कर रहे हैं।

ऑस्ट्रेलिया दौरे के 71 साल के क्रिकेट इतिहास में पहली बार टेस्ट श्रृंखला में जीत दर्ज करने के बाद शास्त्री ने कहा, ‘‘मैंने मेलबर्न में कहा था। मुझे लगता है कि मैंने टीम पर सवाल उठाने और अंधेरे में तीर चलाने वालों को जवाब दिया था। मैं मजाक नहीं कर रहा था, क्योंकि मुझे पता है कि इस टीम ने कितनी कड़ी मेहनत की है। जब आप इतने दूर से गोली चलाते हैं तो वह दक्षिणी गोलार्ध को पार करते समय धुंए की तरह उड़ जाती है।’’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here