झारखंड: पशु चोरी के आरोप में दो मुस्लिम युवकों को पीट-पीटकर मौत के घाट उतारने वाले आरोपियों के समर्थन में आए BJP सांसद, केस लड़ने का उठाएंगे खर्च

0

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) शासित राज्य झारखंड में पिछले कुछ दिनों लिंचिंग की घटनाओं को लेकर सांप्रदायिक हिंसा का माहौल बना हुआ है। दरअसल, इस सप्ताह के शुरूआत में झारखंड के गोड्डा जिले में भीड़ ने दो मुस्लिम युवकों की पीट-पीटकर हत्या कर दी। देवडांड थाने के बनकट्टी गांव में बुधवार सुबह हुई इस घटना में मारे गए चिरागुद्दीन अंसारी उर्फ चरका और मुर्तजा अंसारी पड़ोसी गांव बांझी तालझारी के रहने वाले थे। इस घटना के बाद से इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

झारखंड पुलिस ने मामले की रिपोर्ट दर्ज करके चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इस बीच इस मामले में एक ऐसी खबर आई है जिससे यह साबित हो जाता है कि कहीं ना कहीं लिंचिंग की घटनाओं में अप्रत्यक्ष रूप से बीजेपी का हाथ होता है। दरअसल झारखंड में इस पशु चोरी के आरोप में दो मुस्लिम युवकों को पीट-पीटकर मौत के घाट उतारने के आरोप में गिरफ्तार किए गए चार आरोपियों का केस लड़ने का खर्च बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे उठाएंगे।

जी हां, बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे आरोपियों के समर्थन में खुलकर आ गए हैं। उन्होंने एलान किया है कि गिरफ्तार आरोपियों को कानूनी केस लड़ने में जो भी खर्च होगा, उसका वहन वो करेंगे। सांसद ने कहा कि ये मेरा निजी फैसला है। न्यूज 18 के मुताबिक निशिकांत दुबे ने कहा कि कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) और झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के नेताओं ने दबाव डाला और निर्दोष आदिवासियों को फंसाकर जेल भेजा।

एक वीडियो में गोड्डा सांसद ने कहा,”किसी सभ्य समाज में हत्या जैसे अपराध के लिए कोई जगह नहीं है। मैं इसकी निंदा करता हूं। लेकिन जेएमएम और जेवीएम ने दबाव डाला और निर्दोष आदिवासी लोग, जिनके पास खाने के लिए पैसा नहीं है, गाय और भैंस ही उनके लिए एकमात्र साधन है उनको फंसाया गया है, उन्हें जेल भेजा है।’ बीजेपी सांसद ने आगे कहा कि प्रशासन ने भी दबाव में यह फैसला लिया है, ‘यदि उनका केस नहीं लड़ा जाता है तो वो जिंदगी भर जेल में रहेंगे और उनके परिवार को आत्महत्या करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।’

बीबीसी के मुताबिक यह घटना बुधवार (13 जून) सुबह की है। एसपी राजीव रंजन सिंह ने बीबीसी से कहा, “देवडांड और सुंदरपहाड़ी थाना क्षेत्र की सीमा पर बसे ढुलू गांव के मुंशी सोरेन की भैंस चोरी हो गई थी। बुधवार सुबह बनकट्टी गांव में लोगों ने तीन युवकों को कुछ जानवरों के साथ जाते देखकर रोक लिया। वहां सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गई और ग्रामीणों ने इन युवकों की पिटाई शुरू कर दी। इनमें से एक युवक भाग निकला लेकिन बाकी बचे दोनों युवकों को भीड़ ने लाठी-डंडे से बुरी तरह पीटा। इस कारण दोनों की मौत घटना स्थल पर ही हो गई। हमने मुंशी सोरेन समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।”

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here