अमित शाह को ‘बुखार से लड़ने वाला योद्धा’ करार देकर सोशल मीडिया पर ट्रोल हुआ ‘द हिंदू’, ‘जनता का रिपोर्टर’ द्वारा खबर चलाए जाने के बाद बदलना पड़ा हेडलाइन

0

इस साल होने वाले कर्नाटक विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह राज्य के दौरे पर हैं। इस दौरान अमित शाह ने मंगलवार (20 फरवरी) सुबह सबसे पहले कर्नाटक के दक्षिण कन्‍नड़ जिले स्थित प्रसिद्ध कुक्के सुब्रमण्या मंदिर का दर्शन किया। यह मंदिर भारत के प्राचीन तीर्थ स्थानों में से एक है। बता दें कि यहां भगवान सुब्रमण्या को सभी नागों के स्वामी के रूप में पूजा जाता है।वहीं एक रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया पर हमला करते हुए कहा कि सिद्धारमैया अगर ये सोच रहे हैं कि तुष्‍टीकरण की राजनीति से उन्‍हें सफलता मिल जाएगी तो वह गलत हैं। गौरतलब है कि कर्नाटक में इस साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और इसके मद्देनजर राज्‍य में खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताअों का तूफानी दौरा शुरू हो गया है। दरअसल बीजेपी को उम्मीद है कि कर्नाटक उनके लिए दक्ष‍िण के दरवाजे खोलेगी।

अमित शाह का महिलामंडल कर ट्रोल हुआ ‘द हिंदू’

इस बीच अमित शाह को लेकर दक्षिण भारत का प्रसिद्ध अंग्रेजी अखबार ‘द हिंदू’ की एक रिपोर्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। दरअसल, ‘द हिंदू’ के विशेष संवाददाता ने अपनी इस रिपोर्ट में अमित शाह का जमकर महिमामंडन किया है, जो लोगों के गले से नीचे नहीं उतर रहा है। अपनी रिपोर्ट में अखबार ने अमित शाह को लेकर जिस प्रकार से रिपोर्ट किया है उससे लोग हैरान हैं कि आखिर ‘द हिंदू’ जैसा प्रतिष्ठित अखबार कैसे इस प्रकार की रिपोर्टिंग कर सकता है।

अखबार ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष को 102 बुखार था, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने अपने कार्यक्रम में कोई बदलाव नहीं किया। जबकि डॉक्टरों द्वारा उन्हें आराम करने की सलाह दी गई थी। इसके अलावा अखबार ने अपनी रिपोर्ट में अमित शाह के पूरे दिनचर्या के बारे में जानकारी दी है। रिपोर्टर ने अपनी रिपोर्ट में अमित शाह को बुखार से लड़ने वाला योद्धा करार देते हुए कहा है कि 102 डिग्री बुखार होने के बावजूद बीजेपी अध्यक्ष तटीय जिलों के अपने दौरे के दौरान आगे बढ़ते गए।

खास बात यह है कि पहले इस रिपोर्ट में 1020 डिग्री बुखार होने का दावा किया गया था, लेकिन सोशल मीडिया पर लोगों द्वारा आलोचनाओं के बाद इसे बदलकर 102 डिग्री कर दिया गया। डॉक्टरों के हवाले से रिपोर्ट में दावा किया गया है कि शाह जब मंगलुरु के लिए विमान में बैठे थे तो उन्हें काफी तेज बुखार था। सोमवार रात हवाई अड्डे पर उतरने के तुरंत बाद अमित शाह को पार्टी कार्यकर्ताओं ने सम्मानित किया, लेकिन स्वास्थ्य का हवाला देते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं को संबोधित नहीं किया और वह सीधे गेस्टहाउस के लिए रवाना हो गए।

वहां स्वास्थ्य अधिकारी एमआर सुब्रमण्यन की अगुवाई वेनलॉक हॉस्पिटल के डॉक्टरों की एक टीम ने उनके स्वास्थ्य की जांच की और निर्धारित दवाएं लेने की अनुमति दी। इसके अलावा रिपोर्टर ने अपनी रिपोर्ट में अमित शाह ने क्या खाया, वह कितने बजे सोने गए और कब सोकर उठे हर एक बात का जिक्र किया है। रिपोर्ट में लिखा गया है कि शाह ने चावल, सांभर और दही खाकर रात में आराम किया। इसके बाद इसके बाद मंगलवार सुबह तबीयत खराब होने की वजह से उनका चुनावी अभियान देर से शुरू हुआ।

रिपोर्ट में लिखा है कि अमित शाह ने मंगलवार सुबह 8 बजे उठकर स्नान किया, जिसके बाद उन्होंने स्वास्थ्य जांच करवाया। फिर शाह ने इडली, सांभर, उपामा और कुछ फलों व काली कॉफी लेने के बाद उन्होंने 9 बजे कुक्के सुब्रमण्या मंदिर के किए दर्शन के लिए रवाना हुए। इसके बाद उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया और पुत्‍तुर स्थित विवेकानंद संस्थान में ‘न्‍यू इंडिया’ के निर्माण में युवाओं की भूमिका पर छात्रों को भी संबोधित किया। इसके बाद बंतवाल में एक पार्टी सम्मेलन में भाग लिया।

आलोचना के बाद बदल दिया हेडलाइन 

‘जनता का रिपोर्टर’ द्वारा इस रिपोर्ट को प्रकाशित किए जाने के बाद यह रिपोर्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। अखबार द्वारा दिए गए हेडलाइन (Fever did not deter this warrior) को लेकर लोगों ने जमकर आलोचना की। ‘जनता का रिपोर्टर’ का खबर वायरल होने के कुछ मिनट बाद ही अखबार ने अपनी हेडलाइन को अनुचित करार देते हुए पहले वाले हेडलाइन को बदलकर नए (Amit Shah campaigns with a fever) हेडलाइन के साथ अपडेट किया। अखबार ने लिखा है कि पहले वाला हेडलाइन अनुचित था, जिस वजह से उसे बदल दिया गया है।

दरअसल, वर्तमान परिस्थिति को देखें तो जिस प्रकार से पत्रकारिता का स्तर गिर रहा है उसमें अंग्रेजी के कुछ अखबार ही ऐसे बचे हैं जो किसी भी पार्टी के सामने नतमस्तक नहीं होते हैं। जिसमें ‘द हिंदू’ का नाम भी प्रमुखता से लिया जाता है। ‘द हिंदू’ को दक्षिण भारतीय लोग बड़ी संख्या में पसंद करते हैं। यही वजह है कि अखबार में जब लोगों ने इस रिपोर्ट को देखा तो हैरान हो गए। लोगों को विश्वास ही नहीं हुआ कि अमित शाह के तारीफों का पुल बांधने वाले इस हेडलाइन के साथ यह रिपोर्ट ‘द हिंदू’ में कैसे प्रकाशित हो गया।

देखिए, सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रियाएं:-


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here