आतंकमुक्त माहौल में पाकिस्तान से वार्ता के लिए तैयार है भारत

0

भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कहा कि वह हिंसा और आतंकवाद से मुक्त वातावरण में पाकिस्तान से बात करने के लिए तैयार है।

भारतीय राजनयिक अभिषेक सिंह ने जवाब देने के हक का इस्तेमाल करते हुए बुधवार को प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भारत के बारे में दिए गए बयान का जवाब दिया। उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दा इसलिए अनसुलझा हुआ है और दोनों देशों में इसलिए नहीं बात हो रही है क्योंकि पाकिस्तान प्रतिबद्धताओं की अनदेखी कर रहा है। फिर चाहे यह प्रतिबद्धता 1972 के शिमला समझौते के तहत की गई हो, आतंकवाद के खिलाफ 2004 में संयुक्त बयान की हो या फिर हाल में रूस के उफा में दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच हुई सहमतियों से संबधित हो।

Also Read:  जनरल कमर जावेद बाजवा होंगे पाकिस्‍तान के नए सेनाध्यक्ष, नवाज़ शरीफ़ ने की नियुक्ति

अभिषेक ने कहा, “सभी मौकों पर भारत ने ही पहल कर दोस्ती का हाथ बढ़ाया।”

अभिषेक ने कहा, “समस्या की जड़ में यह बात है कि एक देश है जो अपनी शासकीय नीति में आतंकवाद के इस्तेमाल को वैधानिक उपाय मानता है। दुनिया इसे चिंता से देख रही है क्योंकि इसका असर इस देश के पड़ोसियों से बाहर भी फैल रहा है।”

उन्होंने कहा कि हम सभी मदद के लिए खड़े होंगे लेकिन तभी जब इस राक्षस को बनाने वाले इसके उन खतरों के प्रति जाग जाएं जो इन्होंने खुद को पहुंचाए हैं।

Also Read:  जम्मू कश्मीर: लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी आशिक़ अहमद गिरफ्तार, भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद

शरीफ ने अधिवेशन में अपने भाषण में कश्मीर मुद्दा उठाया था। उन्होंने कश्मीर को कब्जा किया इलाका बताया था। उन्होंने सीमा पर गोलीबारी का जिक्र किया था और कश्मीर के विसैन्यीकरण की वकालत की थी।

अभिषेक ने कहा, “भारत को अफसोस है कि पाकिस्तान ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र जैसी जगह का दुरुपयोग किया, सच्चाई को तोड़ मरोड़कर दिखाया और हमारे क्षेत्र में मौजूद चुनौतियों की झूठी तस्वीर पेश की।”

अभिषेक ने कहा कि कश्मीर विदेशी कब्जे में है और “यह कब्जा करने वाला पाकिस्तान है।”

Also Read:  आतंकवादियों के महिमामंडन पर पाकिस्तान को आड़े हाथ लिया प्रधानमंत्री मोदी ने

उन्होंने कहा कि सीमा पर गोलीबारी की मुख्य वजह इसकी आड़ में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की कोशिश है। उन्होंने कहा, “इसे समझने के लिए कल्पना की जरूरत नहीं है कि कौन सा पक्ष इसकी शुरुआत करता है।”

पाकिस्तान कहता रहा है कि वह खुद आतंकवाद का शिकार है। अभिषेक ने कहा कि सच यह है कि वह आतंकवादियों को पैदा करने की अपनी नीति का शिकार है।

अभिषेक ने कहा कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे को लेकर भारत की आपत्ति इसलिए है क्योंकि यह पाकिस्तान के कब्जे वाले भारतीय इलाके से होकर गुजरता है।

(IANS)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here