पनामा पेपर्स में जिनका नाम आया है, क्या नीतीश कुमार PM मोदी से जांच की मांग करेंगे?: तेजस्वी यादव

0

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के साथ दोबारा सरकार बनाने वाले नीतीश कुमार पर राजद अब आक्रामक राजनीति का रूख अख्तियार कर लिया है। एक दिन पहले लालू यादव द्वारा नीतीश कुमार को राजनीति का पलटूराम बताने के बाद बुधवार(2 अगस्त) को तेजस्‍वी यादव ने संवाददाता सम्‍मेलन में नीतीश कुमार पर हमला बोला है।

PTI File Photo

तेजस्वी यादव ने पनामा पेपर लीक का हवाला देते हुए भ्रष्टाचार पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बीजेपी पर दोहरी नीति अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि पनामा पेपर्स में जिनका नाम आया है क्या नीतीश कुमार पीएम मोदी से जांच की मांग करेंगे? तेजस्वी ने पनामा केस पाक पीएम को दोषी करार दिये जाने का भी जिक्र करते हुए कहा कि पनामा घोटाले में तो दो देशों के प्रधानमंत्री को हटा दिया गया है।

तेजस्वी ने नीतीश पर हमला बोलते हुए कहा कि पनामा पेपर्स मामले छत्तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह के बेटे का नाम है, अमिताभ बच्चन का नाम है, अडानी जी के बड़े भाई का नाम सामने आया है, ऐसे में क्या जीरो टोलरेंस की नीति वहां भी लागू होगी? तेजस्वी ने नीतीश कुमार से सवाल किया कि वो पीएम मोदी से इसकी जांच की मांग करेंगे? उन्होंने कहा कि पनामा घोटाले में जिन-जिन लोगों का नाम आया है, क्‍या उनको बीजेपी से दूर करने की बात की जाएगी।

तेजस्वी ने कहा कि इनका(नीतीश कुमार) अंतरआत्मा कौन सा है? क्या ये कुर्सी आत्मा है, डर आत्मा है, लालच आत्मा है या ये फिर मोदी आत्मा है? तेजस्वी ने कहा कि मेरे मामले में सीएम नीतीश ने कहा कि जीरो टॉलरेंस पर कायम रहने के कारण अंतरआत्‍मा के कारण महागठबंधन तोड़ने का काम किया, अब वह अंतरआत्‍मा कहां गया।

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री ने कहा कि नीतीश कुमार कुर्सी की राजनीति करने के चक्कर में बुरी तरह से फंस गए हैं। बीजेपी उनसे कभी भी अपने धोखे का बदला उनसे लेगी। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार की सरकार अपना टर्म पूरा नहीं कर पाएगी।

तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार ने हम पर एफआईआर को महागठबंधन तोड़ने का पैमाना बनाया, लेकिन उनकी नई सरकार के 75 फीसदी मंत्री दागी हैं ऐसे में वो कैसे उनके साथ सरकार में बैठे हैं। बता दें कि एसोसिएशन फॉर डेमोक्रिटक रिफॉर्म यानि एडीआर की ताजा रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि नीतीश की नई सरकार में चुने गए 29 मंत्रियों में से 22 के खिलाफ आपराधिक मामले चल रहे हैं।

बता दें कि इससे पहले कल(मंगलवार) आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर पलटवार करते हुए जमकर हमला बोला था। उन्होंने नीतीश कुमार को राजनीति का पलटूराम बताया था। साथ ही ये भी बताया कि कैसे उन्होंने नीतीश कुमार के शुरूआती राजनीतिक जीवन में उनकी मदद की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here