तेजस्वी यादव ने विपक्षी नेताओं से की ‘फासीवादी’ न्यूज़ चैनलों को बहिष्कार करने की अपील, सिर्फ अर्नब गोस्वामी के रिपब्लिक टीवी और टाइम्स नाउ ही नहीं बल्कि किसी भी चैनल के डिबेट में शामिल नहीं होने का किया आग्रह

0

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने विपक्ष के सभी नेताओं से ‘फासीवादी’ न्यूज चैनलों की डिबेट में शामिल नहीं होने का आग्रह किया है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित विभिन्न पार्टियों के नेताओं को पत्र लिखकर टीवी न्यूज़ चैनलों के ‘डिबेट’ का बहिष्कार करने की अपील की है। तेजस्वी ने देश के तमाम विपक्षी दलों को चिट्ठी लिखकर आरोप लगाया है कि टीवी न्यूज चैनल देश के वास्तविक मुद्दों को नहीं उठा रहे हैं, बल्कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से संचालित हो रहे हैं। इसलिए विपक्षी दलों को इन चैनलों के कार्यक्रमों में नहीं जाना चाहिए। तेजस्वी का यह आह्वान बीजेपी के कथित समर्थक अर्नब गोस्वामी के रिपब्लिक टीवी, टाइम्स नाउ और ज़ी न्यूज़ से परे है।

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने विपक्षी नेताओं से आग्रह किया कि वे न्यूज चैनलों के इस अभियान के खिलाफ “एकजुट और सामूहिक” रुख अपनाएं। उन्होंने इस बाबत बीते 8 मार्च को विपक्षी नेताओं को लिखे पत्र को अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा करते हुए कहा लिखा, ‘‘साथियों! एक तरफ जहां हम भुखमरी, बेरोजगारी, किसान और सामाजिक न्याय से जुड़े मुद्दे उठा रहे हैं, वहीं मुख्यधारा की मीडिया का एक बड़ा वर्ग बीजेपी मुख्यालय द्वारा तय एजेंडे के तहत इन सरोकारों पर पर्दा डाल रहा है। आइए हम सामूहिक रूप से उन चैनलों का बहिष्कार करने का निर्णय लें…।’’

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता ने मीडिया पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के लिए पक्षपात करने का आरोप लगाया है। आरजेडी नेता ने अपने पत्र में लिखा है, ‘मैं आप (विपक्षी नेताओं) सबको ये पत्र कई न्यूज चैनलों पर शाम के वक्त होने वाली बहस को लेकर लिख रहा हूं। जैसा कि आप जानते हैं इन चैनलों पर हर रोज शाम के वक्त एक खास उद्देश्य के तहत विपक्षी पार्टियों को बदनाम करने का कुचक्र रचा जाता है, ऐसे में अब ये एक प्रत्यक्ष सत्य है कि मीडिया का एक बड़ा तबका बीजेपी को चुनावी फायदा पहुंचाने के लिए काम कर रहा है।’

तेजस्वी ने लिखा, ‘किसी भी टीवी डिबेट के बहस में इस बात की उम्मीद की जाती है कि विपक्षी पार्टियां भी किसी मुद्दे पर अपनी राय रख सकेंगी, लेकिन जिस तरह से बहस को आगे बढ़ाया जाता है, उसमें साफ दिखता है कि उनका झुकाव सिर्फ एक पार्टी को फायदा पहुंचाने की तरफ है।’ आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर तेजस्वी यादव के इस पत्र को साझा किया है।

तेजस्वी ने लिखा, ‘‘ऐसे हालात में मुझे नहीं लगता है कि इन न्यूज चैनलों पर निष्पक्ष बहस की कोई गुंजाइश भी बची है। इन बहसों में विपक्षी नेताओं की मौजूदगी सिर्फ इस वजह से रखी जाती है, जिससे कि वे अपनी झूठ पर फर्जी विश्वसनीयता का पर्दा डाल सकें। मुझसे कई वरिष्ठ पत्रकारों ने भी कहा है कि ऐसे चैनलों में पत्रकारिता के मानदंडों को पूरी तरह से ताक पर रख दिया गया है।’’

तेजस्वी ने ये पत्र कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव, सीताराम येचुरी, एचडी देवगौड़ा, असदुद्दीन ओवैसी, जीतन राम मांझी, हेमंत सोरेन, ओमप्रकाश चौटाला और बाबू लाल मरांडी समेत तमाम विपक्षी पार्टियों के नेताओं को भेजा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here