मेवालाल चौधरी के इस्तीफे पर तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर साधा निशाना, बोले- “असली गुनाहगार आप है, आपने मंत्री क्यों बनाया?”

0

गुरुवार को पदभार ग्रहण करने के कुछ ही देर बाद बिहार के नए श‍िक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उनके इस्तीफे पर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि आपका दोहरापन और नौटंकी अब चलने नहीं दी जाएगी?

तेजस्वी यादव

तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट में लिखा, “मा. मुख्यमंत्री जी, जनादेश के माध्यम से बिहार ने हमें एक आदेश दिया है कि आपकी भ्रष्ट नीति, नीयत और नियम के खिलाफ आपको आगाह करते रहें। महज एक इस्तीफे से बात नहीं बनेगी। अभी तो 19 लाख नौकरी,संविदा और समान काम-समान वेतन जैसे अनेकों जन सरोकार के मुद्दों पर मिलेंगे। जय बिहार,जय हिन्द।”

तेजस्वी ने अपने ट्वीट में आगे लिखा, “मैंने कहा था ना आप थक चुके है इसलिए आपकी सोचने-समझने की शक्ति क्षीण हो चुकी है। जानबूझकर भ्रष्टाचारी को मंत्री बनाया। थू-थू के बावजूद पदभार ग्रहण कराया। घंटे बाद इस्तीफ़े का नाटक रचाया। असली गुनाहगार आप है। आपने मंत्री क्यों बनाया?? आपका दोहरापन और नौटंकी अब चलने नहीं दी जाएगी?”

गौरतलब है कि, विवादों में घिरे बिहार के नए श‍िक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने शपथ लेने के तीन दिन बाद ही अपना इस्तीफा दे दिया। बता दें कि, शपथग्रहण के बाद नीतीश कुमार अपनी कैबिनेट में अपनी एक नियुक्ति को लेकर आलोचनाओं से घिर गए थे।

भ्रष्टाचार के आरोपों पर बिहार के शिक्षा मंत्री मेवा लाल चौधरी ने कहा कि, “कोई भी केस तब साबित होता है जब आपके खिलाफ कोई चार्जशीट हुई हो या कोर्ट ने कुछ फैसला किया हो। न हमारे खिलाफ अभी कोई चार्जशीट हुई है न ही हमारे ऊपर कोई आरोप दर्ज हुआ है।”

गौरतलब है कि, नवनिर्वाचित जदयू विधायक डॉ. मेवालाल चौधरी को राज्य की तारापुर विधानसभा सीट से जीत मिली है। उन्हें पहली बार नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। राजनीति में प्रवेश से पहले मेवालाल भागलपुर कृषि विविद्यालय के कुलपति थे। असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में अनियमितता के आरोपों और एफआईआर दर्ज किये जाने के मद्देनजर चौधरी को सल 2017 में नीतीश कुमार नीत जदयू से निलंबित कर दिया गया था। यह मामला साल 2012 में असिस्टेंट प्रोफेसर और कनिष्ठ वैज्ञानिकों की नियुक्ति में कथित अनियमितता से संबंधित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here