इंटर रिजल्ट को लेकर तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार और सुशील मोदी पर साधा निशाना

0

राष्ट्रीय जनता दल(राजद) के नेता और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने बिहार के इंटर के रिजल्ट को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी पर जोरदार हमला बोला है।

तेजस्वी यादव ने सोशल मीडिया के जरीए मुख्यमंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा कि नीतीश कुमार ने खुद को फ़ायदा पहुंचाने वाले अफ़सर ऐसी जगह बैठा रखे हैं जिन्होंने लाखों छात्रों के जीवन को बर्बाद कर दिया है। उन अफ़सरों के बच्चों की मार्कशीट में त्रुटियां क्यों नहीं हैं? साथ ही उन्होंने पूछा कि, “नीतीश जी चुप क्यों है? लाखों छात्रों का जीवन बर्बाद कर आपको कौन सा मानसिक सुख प्राप्त हो रहा है?”

तेजस्वी यादव ने मंगलवार(12 जून) को ट्वीट करते हुए लिखा, “छात्रों का भविष्य ख़राब हो रहा है और स्वयं घोषित ज्ञानी-ध्यानी सुशील मोदी चुप है। कहाँ गया आपका विगत वर्ष का ज्ञान, श्रीमान अफ़वाह मियाँ जी? छात्रों के रिज़ल्ट और बिहार बोर्ड के काले कारनामों पर नहीं तो कम से कम हमपर ही कुछ बोलकर जुगाली कर लेते। काहे चुप है ख़ुलासा मास्टर जी??”

तेजस्वी ने कहा, “बिहार बोर्ड के घोटालों और विशुद्ध काले कारनामों ने इंटरमीडिएट के लाखों छात्रों का जीवन बर्बाद कर दिया। जो विषय छात्र ने लिया ही नहीं उसकी जगह दूसरे विषय का परिणाम आया जैसे गणित की जगह बायोलॉजी का रिजल्ट आया और 50 अंक की परीक्षा में 68 नंबर और 30 की परीक्षा में 46 अंक आयें।”

तेजस्वी ने मुख्यमंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा, “नीतीश जी ने उन्हें फ़ायदा पहुँचाने वाले अफ़सर ऐसी जगह बैठा रखे है जिन्होंने लाखों छात्रों के जीवन को बर्बाद कर दिया है। उन अफ़सरों के बच्चों की मार्कशीट में त्रुटियाँ क्यों नहीं है? नीतीश जी चुप क्यों है? लाखों छात्रों का जीवन बर्बाद कर आपको कौन सा मानसिक सुख प्राप्त हो रहा है?”

उन्होंने आगे लिखा, “नीतीश जी, हर साल आपकी नाक के नीचे बिहार बोर्ड भाँति-भाँति के गुल खिला रहा है। आपने अपने गृह ज़िला के एक स्वजातीय मित्र को वर्षों तक बिहार बोर्ड का अध्यक्ष बनाकर बिहार की शिक्षा व्यवस्था का जो सत्यानाश करवाया उसके लिए आपको बिहार के कर्णधार छात्रों से माफ़ी माँगनी ही होगी।”

तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार से जवाब मांगते हुए कहा, “नीतीश जी जवाब आपको देना होगा। अफ़सरों के आगे माइक मत किजीए। जो काम नहीं करता उसे हटाइए। अब जिन छात्रों को आगे दाख़िला लेना है उनकी मार्कशीट की त्रुटियाँ ससमय कौन ठीक करेगा? उनका एक महत्वपूर्ण वर्ष बर्बाद क्यों किया जा रहा है? जल्दी से एक हेल्पलाइन और कैम्प लगवा इसे ठीक करवाना चाहिए।”

वहीं, एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “नीतीश जी कभी कदाचार पर नहीं बोलते? ख़राब रिज़ल्ट पर नहीं बोलते? बिहार बोर्ड में व्याप्त भ्रष्टाचार पर नहीं बोलते? इनके गृह ज़िला के कुख्यात शिक्षा माफ़िया पर कारवाई नहीं करते? इनके चंद अफ़सर ठीक और ईमानदार लेकिन बिहार के लाखों छात्र गलत और बेईमान। शिक्षा की गुणवत्ता पर नहीं बोलते।” बता दे कि, पिछले कुछ सालों से लगातार बिहार बोर्ड की कमियां उजागर हो रहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here