टी सी ए अनन्त ने माना कि GDP आंकड़े सही नहीं

0

सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के आंकड़ों में ‘विसंगति’ की बात स्वीकार करते हुए मुख्य सांख्यिकीविद टीसीए अनंत ने आज कहा कि सरकार ऐसी विसंगतियों को कम से कम करने का प्रयास कर रही है।

वित्त वर्ष 2015-16 में जीडीपी के आंकड़ों में फर्क बढ कर 2.14 लाख करोड़ रपये तक दिखा है जो इसके 1.9 प्रतिशत के बराबर है।

अनंत ने पीटीआई भाषा से साक्षात्कार में कहा कि राष्ट्रीय खाते में कुछ विसंगति तो हमेशा रहेगी क्यांकि राज्य सरकारों सहित विभिन्न एजेंसियों द्वारा सूचना भेजने में विलंब होता है। हालांकि, आंकड़ों को पूरी तरह सही तरह से देने के प्रयास किए जा रहे हैं। उनसे पूछा गया था कि 20़15-16 के जीडीपी आंकड़ांे में इतने अधिक फर्क की क्या वजह है।

हाल ही में जारी किये गए सरकारी आंकड़े के अनुसार देश में GDP रिकॉर्ड उछाल का दावा किया गया था।

कई विशेषज्ञों ने पहले ही GDP आंकड़े में त्रुटि की बात कही थी। इस लिए अनन्त का ये मानना कि सरकार अब इस विसंगति को दूर करने की कोशिश कर रही है काफी अहमियत रखता है।

अनंत ने कहा कि सरकार राष्ट्रीय या जीडीपी की गणना में विसंगतियों को कम से कम करने का प्रयास कर रही है। इसके लिए वह ई-गवर्नेंस कार्यक्रम या कारपोरेट खातांे के तहत उपलब्ध आंकड़ांे पर अधिक निर्भर कर रही है। जारी

LEAVE A REPLY