स्विटजरलैंड की इस महिला खिलाड़ी ने चेन्नई आने से किया इंकार, परिवार बोला- महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं भारत

0

चेन्नई में 17 जुलाई से हो रहे वर्ल्ड जुनियर स्क्वैश चैम्पियनशिप में खेलने के लिए 28 देशों के खिलाड़ी भारत आए हुए हैं। वहीं, स्विटजरलैंड की जूनियर स्क्वॉश खिलाड़ी एंब्रे एलिंक्स ने इस चैंपियनशिप में यह कहकर बाहर हो गई कि भारत महिलाओं के लिए सुरक्षित देश नहीं है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, एलिंक्स के माता-पिता नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी भारत आएं। बता दें कि स्विटजरलैंड की जूनियर गर्ल्स स्क्वैश खिलाड़ी एंबर एलिन्क्से अपने देश की टॉप खिलाड़ियों में से एक हैं।

फाइल फोटो

न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, एंब्रे एलिंक्स के पैरेंट्स ने भारत महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों को लेकर आ रही खबरों को देखते हुए ये फैसला लिया। स्विस कोच पास्कल भुरिन के अनुसार, ‘एंब्रे एलिक्स हमारी टॉप रैंक की महिला खिलाड़ी है, वह नहीं आ सकीं क्योंकि उनके पैरेंट्स नहीं चाहते थे।’ कोच के अनुसार, ‘वे इंटरनेट पर लगातार ये पढ़ रहे थे कि भारत में महिलाएं कितनी असुरक्षित हैं और इसलिए वे अपनी बेटी को लेकर कोई खतरा नहीं उठाना चाहते थे। हालांकि, हमने अभी तक कुछ ऐसा अनुभव नहीं किया है।’

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कोच ने कहा कि उन्होंने एलिंक्स के माता-पिता को समझाने की कोशिश की, लेकिन इसका कोई भी असर उनपर नहीं पढ़ा। उन्होंने कहा, मैंने उन्हें समझाने की कोशिश की क्योंकि ये एक वर्ल्ड चैम्पियनशिप था और मैंने महसूस किया कि एंबर के पास एक अच्छा मौका है, लेकिन वे अपनी जिद पर अड़े रहे, और मैं उनसे ज्यादा तर्क वितर्क नहीं कर सका, क्योंकि ये आखिरकार उनकी बच्ची की सुरक्षा का मामला है।

एक न्यूज़ वेबसाइट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ल्ड स्क्वैश फेडरेशन (WSF) के मुख्य कार्यकारी एंड्रियू शेली भी इन रिपोर्ट्स पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा निश्चित तौर पर पैरेंट्स की भावनाओं का ख्याल रखा जाना चाहिए। टूर्नामेंट के आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, ‘इसके बावजूद 28 देशों से 250 से ज्यादा खिलाड़ी और अधिकारी मौजूद हैं। इसमें स्विट्जरलैंड की भी पूरी टीम है। WSF की तरह उन सभी को सुरक्षा इंतजाम और तमिलनाडु स्क्वैश असोसिएशन की ओर से मुहैया कराई गई व्यवस्था पर पूरा भरोसा है।’

गौरतलब है कि अभी हाल ही में चेन्नई स्थित एक बिल्डिंग में 11 साल की एक बच्ची के साथ कई महीनों तक कथित रूप से रेप करने के मामले में पुलिस ने 18 लोगों को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार किए गए लोगों में बिल्डिंग का सिक्योरिटी गार्ड, लिफ्टमैन और वॉटर सप्लायर भी शामिल था।

पुलिस के मुताबिक, सभी आरोपी पिछले 7 महीने से बच्ची की यौन शोषण कर रहे थे। पुलिस का कहना है कि उसे ब्लैकमेल भी किया जा रहा था।

बता दें कि कुछ दिनों पहले समाचार एजेंसी रायटर्स ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया था कि भारत महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश है। इस एजेंसी ने अपनी रैंकिंग में महिला सुरक्षा के मामले में भारत को अफगानिस्तान से भी नीचे रखा था।

 

 

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here