महिला पत्रकार से अभद्रता पर AAP विधायक सोमनाथ भारती पर भड़कीं DCW चीफ स्वाति मालीवाल

0

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने दिल्ली सरकार के पूर्व कानून मंत्री व आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक सोमनाथ भारती की तरफ से महिला पत्रकार पर की गई टिप्पणी की निंदा की है। सोमनाथ भारती के खिलाफ गाली गलौज करने और आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में नोएडा के थाने में एफआईआर भी दर्ज की गई है।

सोमनाथ भारती

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने बुधवार (21 नवंबर) की रात को ट्वीट करते हुए लिखा, वह सोमनाथ भारती के महिला पत्रकार के बारे में दिए गए शर्मनाक बयान की निंदा करती है। उन्होंने लिखा कि नोएडा पुलिस ने इस मसले में एफआईआर दर्ज की है, कानून अपना काम करेगा। साथी ही उन्होंने कहा कि सार्वजनिक जीवन में लोगों को अपने गुस्से पर काबू रखना चाहिए।

सोमनाथ भारती ने RSS समर्थक सुदर्शन न्यूज चैनल के लाइव कार्यक्रम पर महिला एंकर के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए कहा था कि धंधे पर बैठ जाओ। भारती के इस बयान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में सोमनाथ भारती महिला एंकर से कह रहें है कि, ये भड़वागिरी करना बंद कर दो चैनल पर बैठ के, अरे धंधे पर बैठ जाओ। जिस पर एंकर ने कहा कि जो अपनी पत्नी से ठीक से बात नहीं कर सकता, उसे सम्मान नहीं दे सका वो ऐसी बातें कर रहा है, आपको ऐसी बातें करने में शर्म नहीं आती है क्या?

दरअसल, सुदर्शन न्यूज चैनल के लाइव डिबेट प्रोग्राम में महिला एंकर ने सोमनाथ भारती से सीएम केजरीवाल पर मंगलवार को हुए हमले के बारे में सवाल किया था, जिस पर सोमनाथ भारती बुरी तरह से भड़क गए और उन्होंने एंकर से माफी मांगने को कहा और मर्यादा की सारी सीमाएं लांघते हुए बोले कि तुम अपनी औकात ना भूलो, ये तमीज है आपकी।

भारती ने महिला एंकर से कहा, “ये भड़वागिरी करना बंद कर दो चैनल पर बैठ के अरे धंधे पर बैठ जाओ।” हालांकि कार्यक्रम में इस महिला एंकर ने भी सोमनाथ भारती को जमकर खरी-खरी सुनाई सुनाई और उन्हें कोर्ट में इसका जवाब देने को कहा है।

बाद में चैनल ने बीजेपी विधायक ओम प्रकाश शर्मा से उनकी प्रतिक्रिया के लिए आमंत्रित किया। शर्मा ने कहा कि वह भारती की भाषा से हैरान नहीं थे और उन्होंने कहा कि उन्होंने सुदर्शन टीवी पर आप के विधायक की अपमानजनक प्रतिक्रिया की निंदा की। जब महिला एंकर ने उससे पूछा कि वह उनकी कानूनी लड़ाई में क्या मदद करेगें तो विधायक ने अपनी असहायता व्यक्त की और कॉल को डिस्कनेक्ट कर दिया।

बता दें कि साल 2016 में सुदर्शन टीवी के एक पूर्व महिला कर्मचारी ने सुदर्शन न्यूज चैनल के संपादक सुरेश चव्हाणके पर आपराधिक धमकी देने के अलावा दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने महिला की शिकायत आधार पर सुरेश चव्हाण और नारायण साईं के खिलाफ दुष्कर्म करने, जान से मारने की धमकी देने, जबरन गर्भपात व धोखाधड़ी समेत 11 गंभीर धाराओं में केस दर्ज कर लिया था। वहीं, बाद में उन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस ने राज्य में सांप्रदायिक तनाव को फैलाने के लिए गिरफ्तार भी किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here