अब सूरत में 11 साल की बच्ची से रेप के बाद गला दबाकर हत्या! शरीर पर चोट के 86 निशान

0

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में नाबालिग बच्ची से गैंगरेप और हत्या और उन्‍नाव गैंगरेप कांड का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि गुजरात के सूरत से एक ऐसा ही दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। सूरत में एक 11 साल की बच्ची का शव बरामद हुआ है। उसके शरीर पर चोट के 100 के करीब (86) निशान मिले हैं।नोएडाप्रतीकात्मक फोटो

रिपोर्ट के मुताबिक 11 साल की मासूम का रेप कर उसकी हत्या कर दी गई। जांच के दौरान इस 11 साल की बच्ची के शरीर पर जख्म के 86 निशान की पुष्टि हुई है। डॉक्टरी जांच में पाया गया है कि बच्ची की निजी अंगों में भी गंभीर चोटें पाई गईं हैं। करीब 5 घंटे तक चले पोस्टमॉर्टम के बाद अंदेशा है कि बच्ची के साथ रेप किया गया और उसे प्रताड़ित किया गया।

इस मामले में रेप और पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। जांच के लिए फोरेंसिक लैब में सैम्पल भेजे गए हैं ताकि ये निश्चित किया जा सके कि उसे नशीली दवाएं दी गई थीं या नहीं। बच्ची या उसके परिवार के बारे में जानकारी देने वाले को 20 हजार का ईनाम देने का ऐलान किया गया है। शहर में कुल 100 पर्चे चिपकवाए गए हैं। सोशल मीडिया की भी मदद ली जा रही है।

बच्ची की पहचान अभी नहीं हो पाई है और ना ही किसी ने उसके शव पर अपना दावा किया है। हिंदुस्तान में छपी रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस इंस्पेक्टर एमवी झाला ने कहा कि घटना के 8 दिन बाद भी बच्ची के माता-पिता का पता नहीं चल पाया है। हमें लगता है कि बच्ची का मर्डर कहीं और किया गया और उसकी लाश यहां फेंक दी गई। बच्ची की तस्वीर पुलिस कंट्रोल रूम में भेज दी गई है ताकि उसकी पहचान की जा सके।

NDTV के मुताबिक, बच्ची के शरीर पर पाए गए चोट के निशान से यह अनुमान लगाया जा रहा है कि उसे कम से कम 7 दिन तक टॉर्चर किया गया होगा। सैंपल को फॉरेंसिक जांच के लिए लिए भेज दिया गया है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही यह तय हो पाएगा कि बच्ची का यौन उत्पीड़न किया गया है या नहीं। बच्ची के शरीर पर मिले चोट के ज्यादातर निशान लकड़ी के डंडे के हैं।

सूरत सिविल अस्पताल के फॉरेंसिक हेड ने कहा कि बच्ची को आखिरकर गला घोंटकर मारा गया है। सूरत सिविल अस्पताल के फॉरेंसिक हेड गणेश गोवेकर ने कहा कि पोस्टमॉर्मट रिपोर्ट के दौरान हमने पाया कि शरीर पर जो चोट के निशान हैं वह एक से सात दिन पुराने हैं। उन्होंने कहा कि बच्ची के शरीर पर 86 चोट के निशान हैं।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के कठुआ में बकरवाल समुदाय से ताल्लुक रखने वाली आठ वर्षीय नाबालिग बच्ची का 10 जनवरी को अपहरण हुआ था। आरोप है कि उसे कठुआ जिले के रसाना गांव के एक मंदिर में रखा गया था, जहां आरोपियों ने करीब एक सप्ताह तक उसके साथ गैंगरेप किया और नशीली पदार्थ खिलाकर रखा। इस दौरान उसे भूखा रखा गया।

बाद में आरोपियों ने बच्ची को मार डाला और उसका चेहरा पत्थरों से कुचल कर शव जंगल में फेंक दिया था। बच्ची का शव 17 जनवरी को रसाना गांव के जंगल से मिला था। जिसके बाद पूरे देशभर में इस नृशंस हत्या की कड़ी निंदा हो रही है और विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। पीड़िता के परिवार की मांग है कि दोषियों को फांसी की सजा दी जाए।

वहीं, उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक महिला के साथ कथित तौर पर बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर ने दुष्कर्म किया। उन्नाव जिले की बांगरमऊ विधानसभा सीट से विधायक सेंगर को शुक्रवार रात सीबीआई ने गिरफ़्तार किया था। शनिवार को उन्‍हें 7 दिन की सीबीआई हिरासत में भेज दिया गया। यह घटना तब प्रकाश में आई, जब पीड़‍िता ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के सामने खुद को आग के हवाले करने की कोशिश की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here