कश्मीर के हालातों पर दावा करके फंसी शेहला रशीद, फर्जी खबरें फैलाने को लेकर दर्ज हुई आपराधिक शिकायत, गिरफ्तारी की मांग उठी

0

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की पूर्व छात्र नेता और पूर्व छात्र संघ की उपाध्यक्ष शेहला रशीद जम्मू कश्मीर के हालातों को लेकर किए गए अपने ट्वीट को लेकर लगातार विवादों में घिरती नजर आ रही हैं। सेना ने शेहला रशीद के आरोपों को खारिज करते हुए इसे तथ्यहीन बताया और अब उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में आपराधिक शिकायत दर्ज करवाई गई है।

शेहला रशीद
फाइल फोटो

बता दें कि, शेहला रशीद ने घाटी में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर के हालातों को लेकर कई ट्वीट किए। शेहला ने ट्विटर के माध्यम से दावा किया कि भारतीय सेना द्वारा घाटी के लोगों पर अत्याचार किए जा रहे हैं। शेहला ने एक के बाद एक करते हुए लगातार 10 ट्वीट किए, जिसके बाद भारतीय सेना रशीद के सभी दावों को खारिज करते हुए इसे फेक न्यूज करार दिया।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार भारतीय सेना सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। भारतीय सेना ने कहा कि कुछ आसामाजिक तत्व और संगठन नफरत भरी खबरों को फैलाकर लोगों को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं।

वहीं, अब इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने शेहला रशीद के खिलाफ एक आपराधिक शिकायत दायर की, जिसमें कथित तौर पर भारतीय सेना और भारत सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलाने के आरोप में उनकी गिरफ्तारी की मांग की गई है।

आलोक श्रीवास्तव ने ट्वीट कर लिखा, “अपने ट्वीट के द्वारा भारतीय सेना पे निराधार आरोप लगाने, देश में हिंसा/दंगा भड़काने का प्रयास करने और भारत की छवि अंतरराष्ट्रीय पटल पे कमज़ोर करने के आरोप में शेहला रशीद के ख़िलाफ आज मैंने दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। ज़रूरत पड़ने पे मैं न्यायालय भी जाऊँगा।”

बता दें कि, शेहला राशिद खुद भी कश्मीरी हैं और मूल रूप से श्रीनगर की रहने वाली हैं। वह साल 2015-16 में छात्रसंघ की उपाध्यक्ष भी बनी थी। हाल ही में शेहरा शाह फैसल की पार्टी जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट से जुड़ गई थीं। बता दें कि, शेहला लगातार केंद्र में सत्ताधारी बीजेपी पर भी हमलावर रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here