दिल्ली हिंसा: BJP नेता कपिल मिश्रा के समर्थकों ने टाइम्स नाउ की रिपोर्टर के साथ की बदसलूकी, देखें वीडियो

0

उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) को लेकर भड़की साम्प्रदायिक हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 38 पर पहुंच गई है। इस हिंसा में अब तक 56 पुलिसकर्मियों समेत करीब 200 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं। दिल्ली में CAA-NRC को लेकर भड़की हिंसा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता कपिल मिश्रा का नाम बार-बार सामने आ रहा है, जिन पर दंगा भड़कने से ठीक पहले भड़काऊ भाषण देने का आरोप है। कपिल मिश्रा के भड़काउ भाषण को दिल्ली हिंसा की वजह माना जा रहा है।

कपिल मिश्रा

खुद को सवालों में घिरता देख भाजपा नेता कपिल मिंश्रा गुरुवार (28 फरवरी) को शांति मार्च निकालने जंतर-मंतर पहुंच गए। वहीं, जब कपिल मिश्रा से दिल्ली दंगों को लेकर सवाल पूछा गया तो वो मौन साध गए और उन्होंने जवाब नहीं दिया गया। इसी दौरान, जब अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ की रिपोर्टर उनसे कुछ सवाल पूछ रही थी। शायद सवाल गंभीर थे और जवाब उनके पास नहीं था तो उन्होंने सवाल को दरकिनार किया। इस बीच, कपिल मिश्रा के समर्थक वहां आ गए और वह महिला रिपोर्टर के साथ बदसलूकी करने लगे।

दरअसल, दिल्ली के उत्‍तर-पूर्वी इलाके में भड़की हिंसा में बार-बार नाम आने के बाद खुद को पाकसाफ बतान के लिए कपिल मिश्रा ‘शांति रैली’ का आयोजन किया, जिसमें पत्रकारों को भी बुलाया गया। इसी दौरान टाइम्स नाउ की महिला रिपोर्टर ने कुछ सवाल किए, जिसका जवाब कपिल मिश्रा नहीं दे पार रहे थे। शायद सवाल गंभीर थे और जवाब उनके पास नहीं था तो उन्होंने सवाल को दरकिनार किया। पत्रकार ने कपिल मिश्रा से पूछा, “पहले आप चेतावनी दे रहो हो और फिर शांति मार्च, इसका क्या मतलब है सर?” इस सवाल का कपिल मिश्रा कोई जवाब नहीं दे पाए। पत्रकार उनसे बार बार यही सवाल दोहराती रही लेकिन वो कुछ नहीं बोले।

इस दौरान टाइम्‍स नाउ की पत्रकार ने जब बार-बार भाजपा नेता से सवाल दागे तो उनकी एक समर्थक पत्रकार पर हमलावर कर दिया। कपिल मिश्रा की समर्थक ने पत्रकार के साथ धक्कामुक्की शुरू कर दी। इस दौरान रिपोर्टर यह दलील देती रहीं कि जब उन्‍हें यहां बुलाया गया है तो सवाल क्‍यों नहीं पूछने दिया जा रहा और वह सवालों के उत्‍तर आखिर क्‍यों नहीं दे रहे। उनके बार-बार जोर देने के बीच एक युवती वहां से उठी और उसने टाइम्‍स नाउ की पत्रकार के साथ धक्‍का-मुक्‍की शुरू कर दी। बाद में वहां मौजूद लोगों के बीच बचाव किया।

बता दें कि, नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा में अब तक 38 लोगों की मौत हो गई है। कई इलाकों में भड़की हिंसा में अब तक 56 पुलिसकर्मियों समेत करीब 200 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं। हिंसा में हेड कांस्टेबल रतनलाल और इंटेलिजेंस ब्यूरो के अफसर अंकित शर्मा की भी मौत हो गई।

बता दें कि, भाजपा नेता कपिल मिश्रा के खिलाफ रविवार और सोमवार को दिल्ली में हिसा भड़काने के आरोप में दो मामले दर्ज किए गए हैं। एक शिकायत आम आदमी पार्टी (आप) की कॉर्पोरेटर रेशमा नदीम और दूसरी हसीब उल हसन ने दर्ज कराई है। दर्ज शिकायतों में कहा गया है कि विरोध के दौरान कपिल मिश्रा ने अपने भड़काऊ भाषणों से लोगों को भड़काया, जिससे अराजकता फैल गई। पूर्व AAP विधायक और हाल के दिल्ली विधानसभा चुनाव में मॉडल टाउन से भाजपा के टिकट पर चुनाव हार चुके मिश्रा ने रविवार को जाफराबाद इलाके के मौजपुर चौक में सीएए के समर्थन में सभा को संबोधित किया था जिसके बाद ही दोनों पक्षों के बीच झड़पें शुरू हुईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here