सुनील ग्रोवर ने कहा- ‘कपिल का शो’ छोड़ने पर कोई पछतावा नहीं

0

कॉमेडियन कपिल शर्मा और सुनील ग्रोवर के बीच विवाद को लेकर कुछ समय पहले राजू श्रीवास्तव ने कहा था कि वे दोनों के बीच सुलह कराने की बहुत कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे। लेकिन अब खुद सुनील ग्रोवर ने पहली बार शो छोड़ने को लेकर अपनी बात सामने रखी है। जिसमें सुनील ग्रोवर ने साफ कर दिया है कि अब वो फिर से कभी इस शो का हिस्सा नहीं होंगे।

सुनील ग्रोवर

 

अंग्रेजी अखबार डीएनए को दिए इंटरव्यू में सुनील ग्रोवर ने कहा है, ”उन्हें कपिल शर्मा के शो को छोड़ने पर कोई पछतावा नहीं है।” सुनील ने बताया है कि वो काफी लंबे समय से लगातार काम कर रहे थे। ऐसे में अब इस ब्रेक के दौरान उन्हें कुछ अलग सोचने का मौका मिला है।

Also Read:  नौसेना के जहाज पर नाविक ने सीनियर अफसर को मारा थप्पड़, झगड़ा रोकने के लिए बुलाना पड़ा हेलीकॉप्टर

सुनील ने कहा कि वो अब लाइव शो कर रहे हैं और ऐसा करना एक अलग और मजेदार अनुभव है। सुनील का कहना है कि ये शो छोड़ने के बाद उनकी मां उनसे नहीं पूछती हैं कि वो काम पर क्यों नहीं जा रहे हैं।

सुनील से जब पूछा गया कि आपको शो के 100 एपिसोड का हिस्सा नहीं बन पाने का दुख है, तो सुनील ने जवाब में कहा कि वो शो के 92 एपिसोड का हिस्सा रहे हैं और इसका हिस्सा बनने के लिए वो हमेशा शुक्रगुजार रहेंगे। साथ ही सुनील ने कहा कि अगर सचिन सिर्फ 100 रन बनाने के बारे में सोचते तो वो कभी महान खिलाड़ी नहीं बन पाते।

Also Read:  So Ali Asgar did not leave Kapil Sharma Show in solidarity with Sunil Grover

सुनील ने बताया है कि उनके पास नया शो करने के लिए कई ऑफर्स हैं, पर अभी सोनी के साथ कॉन्ट्रेक्ट होने के चलते वो अभी कहीं नहीं जा सकते। सुनील ने कहा कि जैसे ही ये कॉन्ट्रेक्ट पूरा हो जाएगा वो आगे के बारे में जानकारी देंगे।

Also Read:  Kapil Sharma moves Bombay high court against BMC order

दरअसल, कपिल शर्मा के साथ आस्ट्रेलिया दौरे से वापसी के दौरान फ्लाइट में सुनील ग्रोवर को अपमानित करने और उनपर हाथ उठाने का आरोप है। जिसके बाद कपिल का साथ उनके सहयोगी कलाकारों ने छोड़ दिया था। जिसके बाद कपिल शर्मा ने सोशल साइट्स पर सफाई दी और सुनील ग्रोवर से माफी भी मांगी। इस विवाद का सीधा असर शो की व्यूवरशिप और टीआरपी पर पड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here