महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव: मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने खारिज की EVM की जगह बैलेट पेपर से वोटिंग की मांग

0

कुछ राज्यों में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से ठिक पहले मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बुधवार को एक बार फिर से इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को लेकर राजनीतिक दलों की आशंका को दूर करते हुए कहा कि इससे छेड़छाड़ करना नामुमकिन है। उन्होंने कहा कि, ईवीएम में खराबी हो सकती है लेकिन छेड़छाड़ नहीं की जा सकती।

महाराष्ट्र
फाइल फोटो: मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के लिए मुंबई में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए सुनील अरोड़ा ने बुधवार को कहा कि, कुछ पार्टियों चाहती हैं कि दीवाली के बाद चुनाव कराए जाए। पार्टियों द्वारा यह मांग भी की गई। वहीं, उन्होंने बताया कि कुछ पार्टियों की मांग थी कि चुनाव बैलट पेपर से कराए जाएं, लेकिन हमने मना कर दिया और कह दिया कि ऐसा संभव नहीं है। समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक अरोड़ा ने कहा कि, “इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती। ईवीएम में खराबी हो सकती है लेकिन छेड़छाड़ नहीं की जा सकती।”

सुनिल अरोड़ा ने आगे कहा कि हमने हमने मुख्य सचिव से पूछा कि क्या हमें हाल ही में बाढ़ से प्रभावित हुए सांगली, सतारा और कोल्हापुर जिले में अपना काम जारी रखना चाहिए या नहीं। अगर वह किसी चीज की जरूरत पर आधारित मामला बनाते हैं तो आयोग सहानुभूतिपूर्वक महाराष्ट्र पर विचार करेगा।

गौरतलब हो कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) समेत कई दलों ने चुनाव आयोग से राज्य में बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की थी। एनसीपी के अलावा कांग्रेस, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) और अन्य छोटे दलों के शीर्ष नेताओं ने आरोप लगाया था कि पिछले लोकसभा चुनाव में ईवीएम में कई विसंगतियां थीं, जिसने लोगों के मन में गंभीर संदेह पैदा किया है। इसलिए लोगों के जनादेश में पारदर्शिता लाने के लिए मतदान के लिए बैलेट पेपर प्रणाली को वापस लाना ही चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here