सुनंदा पुष्कर मौत मामला: दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में शशि थरूर पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप, पूर्व केंद्रीय मंत्री ने ट्वीट कर आरोपों को किया खारिज

0

कांग्रेस नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में दिल्ली पुलिस ने सोमवार (14 मई) को पटियाला हाउस कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है। चार्जशीट को धारा 306 और 498 ए के तहत दायर किया गया है। चार्जशीट में सुनंदा पुष्कर के पति और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोपी बनाया गया है। इस मामले में अगली सुनवाई 24 मई को होगी।

फाइल फोटो

दिल्‍ली पुलिस ने आईपीसी की धारा 306 यानि आत्महत्या के लिए उकसाना और 498 ए वैवाहिक जीवन मे प्रताड़ना के तहत आरोप-पत्र दाखिल किया है। दिल्‍ली पुलिस ने इस मामले में पहले हत्या का केस भी दर्ज किया था। पुलिस ने शशि थरूर को आरोपी माना है। दिल्‍ली पुलिस ने 3000 पन्‍नों का आरोप पत्र दाखिल किया है। चार्जशीट के मुताबिक, थरूर संदेह के दायरे में हैं लेकिन उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक सुनंदा पुष्कर की रहस्यमय मौत के मामले में दिल्ली पुलिस ने उनके पति, पूर्व केंद्रीय मंत्री तथा कांग्रेस नेता शशि थरूर को पत्नी को प्रताड़ित करने तथा खुदकुशी के लिए उकसाने का आरोपी बनाया है। पुलिस ने सोमवार को मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट धमेंद्र सिंह के समक्ष आरोप पत्र दायर किया है। इसमें भारतीय दंड संहिता की धारा 498 ए (पति या उसके रिश्तेदारों द्वारा महिला को प्रताड़ित करना) और 306 के (खुदकुशी के लिए उकसाना) के तहत आरोप शामिल हैं।

इस आरोप पत्र में थरूर का नाम आरोपी के तौर पर शामिल किया गया है। बता दें कि सुनंदा 17 दिसंबर, 2014 को दक्षिणी दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में रहस्यमयी परिस्थितियों में मृत पायी गयी थी। इससे एक दिन पहले ही ट्विटर पर सुनंदा और पाकिस्‍तानी पत्रकार मेहर तरार के बीच नोक-झोंक हुई थी। तब मेहर और थरूर के बीच अफेयर की अटकलें लगने लगी थीं।

सुनंदा पुष्कर की मौत को पहले आत्महत्या बताया गया था। लेकिन एक साल बाद विसरा रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया था। गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत की जांच SIT से कराने की बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका को दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज कर दी थी।

शशि थरूर ने ट्वीट कर आरोपों को किया खारिज

शशि थरूर ने इस चार्जशीट को गलत बताते हुए, इसके खिलाफ लड़ाई लड़ने की बात कही है। शशि थरूर ने दो ट्वीट कर इस मामले में अपना पक्ष रखा है। थरूर ने लिखा है कि जो कोई भी सुनंदा को जानता था उसे यह बात पता है कि अकेले मेरे उकसाने से वह खुदकुशी नहीं कर सकती। शशि थरूर ने कहा कि साढ़े 4 साल बाद जांच के बाद दिल्ली पुलिस का ऐसे नतीजों पर पहुंचना उसकी मंशा पर सवाल खड़े करता है।

थरूर ने दावा किया है कि, ’17 अक्टूबर को दिल्ली हाई कोर्ट में लॉ ऑफिसर ने बयान दिया था कि इस केस में उन्हें किसी के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं। अब 6 महीने बाद वे कह रहे हैं कि मैंने खुदकुशी के लिए उकसाया। यह अविश्वसनीय है।’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here