बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अर्थव्यवस्वस्था की सुस्ती के लिए पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को ठहराया जिम्मेदार

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रह्मण्यम स्वामी ने अर्थव्यवस्था की सुस्ती के लिए पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को जिम्मेदार ठहराया है। बता दें कि, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली की हालत ‘बेहद नाजुक’ बताई जा रही है। विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम उनके उपचार पर नजर रख रही है। अरुण जेटली को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में जीवनरक्षक प्रणाली पर रखा गया है। पक्ष और विपक्ष के नेता लगातार उन्हें देखने एम्स अस्पताल पहुंच रहे हैं।

सुब्रमण्यम स्वामी

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा वापस लेना सही फैसला था। हालांकि, अब देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने की जरूरत है क्योंकि, यह राष्ट्रीय सुरक्षा एवं राष्ट्र- निर्माण दोनों के लिहाज से अहम है। राज्यसभा सदस्य ने रविवार को संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के कार्यकाल में अपनाई गईं “गलत नीतियां” अर्थव्यवस्था में सुस्ती के लिए जिम्मेदार हैं। उन्होंने ब्याज दर बढ़ाने के लिए रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन की भी आलोचना की।

स्वामी ने कहा, “मेरा मानना है कि जेटली के कार्यकाल के दौरान अपनाई गईं गलत नीतियां – जैसे अधिक कर लगाना- अर्थव्यवस्था में सुस्ती का एक कारण है। ये नीतियां अभी भी लागू हैं। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का नीतिगत दरें बढ़ाना भी सुस्ती के कारणों में से एक है।” सुब्रमण्यम स्वामी ने पुणे में आयोजित कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से यह बात कही।

अनुच्छेद 370 के कुछ प्रावधानों को समाप्त करने के फैसले और अर्थव्यवस्था पर स्वामी ने कहा, “अर्थव्यवस्था को ठीक करने की जरूरत है। आर्थिक मोर्चे पर मेरी सलाह नहीं मांगी गई थी। अनुच्छेद 370 पर मेरी सलाह मांगी गई थी और यह काम ठीक ढंग से हुआ।” उन्होंने कहा , “अर्थव्यवस्था को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। वास्तव में, राष्ट्रीय सुरक्षा और राष्ट्र- निर्माण के लिए यह महत्वपूर्ण है।”

बता दें कि जेटली पिछले करीब 2 साल से बीमार चल रहे हैं, वह सॉफ्ट टिशू कैंसर से पीड़ित हैं। किडनी संबंधी बीमारी के बाद पिछले साल मई में उन्हें किडनी प्रत्यारोपित की गई थी। लेकिन किडनी की बीमारी के साथ-साथ जेटली कैंसर से भी जूझ रहे हैं। उनके बायें पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया है जिसकी सर्जरी के लिए जेटली इसी साल जनवरी में अमेरिका भी गए थे।

अरुण जेटली ने पिछली मोदी सरकार में वित्त मंत्रालय के साथ-साथ कुछ समय के लिए रक्षा मंत्रालय की भी जिम्मेदारी संभाली थी। बीमारी की वजह से इस बार वह मोदी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुए थे। 66 वर्षीय जेटली फिलहाल एम्स में इलाज के लिए भर्ती हैं। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here