पश्चिम बंगाल: पीएम मोदी के कोलकाता दौरे का विरोध, ‘गो बैक मोदी’ के पोस्टर लेकर सड़कों पर उतरे छात्र

0

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी पर हंगामे के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार (11 जनवरी) को पश्चिम बंगाल के दो दिन के दौरे पर कोलकाता पहुंच गए है। यहां पीएम मोदी कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ भी उनकी बैठक होनी है। उनके पहुंचने से पहले उनका विरोध शुरू हो गया है। छात्र संगठन स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) ने पीएम मोदी के कोलकाता दौरे का विरोध किया है। छात्र ‘गो बैक मोदी’ का पोस्टर लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

कोलकाता
फोटो: @CPIM_WESTBENGAL

सोशल मीडिया पर हैशटैग के साथ एक अभियान भी चल रहा है जिसमें लोगों से हवाईअड्डे और वीआईपी रोड पर विरोध के लिए पहुंचने को कहा जा रहा है। जिससे कि प्रधानमंत्री को प्रवेश करने से रोका जा सके। मोदी की यात्रा के विरोध में एक के बाद एक ट्वीट किए जा रहे हैं।

एक ट्वीट में पीएम मोदी की तस्वीर को एक शासक के साथ लगाया गया है कि और लिखा है कि यदि अनाचार करना है तो मोदी गद्दी छोड़ो। एक अन्य ट्वीट में लिखा है, ‘हम भारत के लोग आपको धर्म के आधार पर विभाजित नहीं करने देंगे। डिवाइडर इन चीफ गो बैक।’ एक और ट्वीट में लिखा है, ‘देशभर में भारी विरोध के बीच मोदी-शाह की जोड़ी ने अपने झूठ के निर्माण कारखाने को चालू रखा है। हिटलर के जर्मनी में नाजी प्रचार को याद रखें, ‘एक झूठ को बार-बार दोहराया जाए, फिर वो सच हो जाता है।’

एसएफआई के कार्यकर्ता यादवपुर विश्वविद्यालय, गोलपार्क, कॉलेज स्ट्रीट, हातीबगान और एस्प्लेनेड के पास हाथों में पोस्टर लेकर जमा हुए जिन पर ‘फासीवाद के खिलाफ छात्र’ जैसे नारे लिखे हुए थे। समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, एसएफआई नेता देबराज देबनाथ ने कहा, “हम प्रधानमंत्री के दौरे का विरोध करते हैं जो भेदभाव से भरे संशोधित नागरिकता कानून, राष्ट्रीय नागरिक पंजी और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में भगवा ताकतों द्वारा किए गए हमले के पीछे हैं।” उन्होंने कहा, “हम मोदी, अमित शाह और अन्य भाजपा नेताओं के दौरे के खिलाफ हैं जो बंगाल के लोगों को विभाजित कर रहे हैं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here