मोदी के मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा- भारत में लोकतंत्र तभी तक सुरक्षित है जब तक बहुसंख्यकों की आबादी है

0

कई बार विवादास्पद बयान देकर सुर्खियों में रहने वाले बिहार से भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के सांसद और मोदी सरकार में लघु उद्योग केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एक कार्यक्रम में राम मंदिर निर्माण की बात कही साथ ही विवादास्पद बयान भी दे दिया, जिसको लेकर वो सुर्खियों में आ गए है।

गिरिराज सिंह
File Photo: Hindustan Times

न्यूज़ एजेंसी भाषा की ख़बर के मुताबिक, एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि, भारत में लोकतंत्र भी तभी तक सुरक्षित है जब तक बहुसंख्यकों की आबादी है। बहुसंख्यक आबादी गिरेगी उस दिन लोकतंत्र भी खतरे में होगा, इसलिए देश की जनसांख्यिकी में हो रहे बदलाव को रोकने के लिए देश की जनसंख्या नियंत्रण के संबंध में कानून बनना चाहिए।

सरोकार समिति द्वारा गुरुवार को ‘राष्ट्रवाद के संकल्प से नव भारत की सिद्धि’ विषय पर व्याख्यान देते हुए सिंह ने कहा, मैं कहना चाहता हूं कि भारत में जम्हूरियत भी तब तक है और लोकतंत्र भी तभी तक सुरक्षित है जब तक बहुसंख्यकों की आबादी है। जिस दिन बहुसंख्यकों की आबादी गिरेगी उस दिन लोकतंत्र भी मैं तो कहता हूं विकास और सामाजिक समरसता दोनों खतरे में होंगे।

उन्होंने कहा, देश में जनसांख्यिकी बदलाव हो रहा है। उत्तर प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, केरल और अन्य राज्यों सहित देश के 54 जिलों में हिन्दू आबादी गिर गई है और ये जिले मुस्लिम बहुसंख्यक हो गए हैं। जनसांख्यिकी बदलाव भारत की एकता और अखंडता के लिए खतरा बन रहा है। इसलिए आबादी नियंत्रण के संबंध में देश में एक कानून बनना चाहिए जो सभी धर्म के लोगों पर एक समान रूप से लागू हो।

सिंह ने दावा किया, मैं चुनौती और जिम्मेदारी के साथ कह रहा हूं कि देश में जहां-जहां हिन्दुओं की आबादी गिरी है, वहां-वहां सामाजिक समरसता कम हुई है और राष्ट्रवाद कमजोर हो रहा है। राष्ट्रवाद के लिए जनसांख्यिकी बदलाव घातक है और इससे निपटने के लिए गांव-गांव से आवाज उठनी चाहिए।

साथ ही उन्होंने कहा कि आज देश की जनसांख्यिकी बदल गई है। आजादी के वक्त विभाजन के समय 1947 में पाकिस्तान के हिस्से आए भूभाग पर 22 फीसद हिन्दू आबादी थी जो अब वहां मात्र 1 प्रतिशत रह गई है। इसके उलट भारत में आबादी के वक्त 90 फीसद हिन्दू थे और मुस्लिम 8 प्रतिशत थे।

मीडिया के अनुसार लेकिन अब भारत में मुस्लिम आबादी 8 प्रतिशत से बढ़कर 22 प्रतिशत हो गई और हिन्दू आबादी 90 प्रतिशत से घटकर 72 प्रतिशत हो गई है। उन्होंने कहा कि देश के बढ़ती जनसंख्या सरकार की चिंता तो है लेकिन यह आप (समाज) की भी चिंता होना चाहिए, क्योंकि इसके कारण देश में किया जा रहा विकास और रोजगार दिखाई नहीं देता है।

बता दें कि, कुछ दिनों पहले ही गिरिराज सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक स्क्रीन शॉट ट्वीट करते हुए लिखा था कि, हिंदुस्तान में मुस्लिम की जनसंख्या इतनी है की उन्हें अब अल्पसंख्यक से बाहर होना चाहिए, आज देश को जरूरत है अल्पसंख्यक की परिभाषा पर एक बहस की।

बता दें कि, गिरिराज ने जिस स्क्रीन शॉट को शेयर किया था उसमें बताया गया था कि, 2050 तक भारत सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश होगा।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here