श्री श्री रविशंकर ने कहा, यमुना का जो भी नुकसान हुआ है इसका जुर्माना सरकार पर लगना चाहिए

0

श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग के स्‍थापना दिवस के मौके पर दिल्ली के यमुना तट पर विश्व संस्कृति महोत्सव आयोजन करने की वजह से यमुना के डूब क्षेत्र को भारी नुकसान की ख़बरे आने के बाद श्री श्री रविशंकर ने मंगलवार (18 अप्रैल) को कहा कि इस कार्यक्रम को आयोजित करने से अगर नुकसान हुआ है तो इसके लिए लिए राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (NGT) के साथ केंद्र व दिल्ली सरकारों पर जुर्माना लगाया जाना चाहिए।

श्रीश्री रविशंकर
file photo

साथ ही उन्होंने कहा कि, अगर यमुना ‘इतनी ही नाजुक और शुद्ध थी’ तो अधिकारियों को विश्व संस्कृति महोत्सव की इजाजत नहीं देनी चाहिए थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, रविशंकर ने कहा कि ऑर्ट ऑफ लिविंग ने एनजीटी सहित सभी जरूरी इजाजत ली थी। इसमें कहा गया, “एनजीटी के पास आवेदन की फाइल दो महीने तक थी और वे इसे शुरुआत में ही रोक सकते थे।

यह प्राकृतिक न्याय के सभी सिद्धांतों की अवहेलना है कि आप इजाजत देते हैं और किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं होने पर भी जुर्माना लगा देते हैं।” उन्होंने कहा, “यदि यमुना इतनी ही नाजुक और शुद्ध थी, तो उन्हें शुरुआत में ही विश्व संस्कृति उत्सव को रोक देना चाहिए था।

साथ ही उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम की प्रशंसा की जानी चाहिए थी लेकिन ऐसा लग रहा है जैसे कोई अपराध कर दिया गया है। रविशंकर ने कहा कि उस समारोह ने हवा, पानी व भूमि किसी को प्रदूषित नहीं किया।

इस तीन दिवसीय कार्यक्रम को 155 देशों के तीस लाख से ज्यादा लोगों ने देखा। रविशंकर की यह टिप्पणी एनजीटी द्वारा गठित एक विशेषज्ञ समिति की रिपोर्ट के बाद आई है।

आपको बता दें कि पिछले साल 2016 में श्री श्री रविशंकर के इस वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल का आयोजन दिल्ली में यमुना के किनारे 11 से 13 मार्च के बीच आयोजित किया गया था। तीन दिन तक चले इस कार्यक्रम के समाप्ति के बाद यमुना किनारे दूर-दूर तक सिर्फ गंदगी और कूड़े के ढेर दिखाई दिए थे।

इस विशाल महोत्सव से पहुंचे पर्यावरण को नुकसान के मद्देनजर एनजीटी ने श्रीश्री रविशंकर की आर्ट ऑफ लिविंग पर 5 करोड़ का जुर्माना लगाया था। जिसके बाद आर्ट ऑफ लिविंग को इस जुर्माने का भुगतान करना पड़ा था।

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here