मौहम्मद रफी के लिए ‘ऐ दिल है मुश्किल’ के डायलॉग पर, सोनू निगम ने लिखा, “RIP अदब” हम भारतीयों को अब तुम्हारी जरूरत नहीं

0
इसमेे कोई रहस्य नहीं है कि सोनू निगम ने हमेशा ही मौहम्मद रफी को अपना आर्दश माना है, और भारत में चाहे जितने उतार चढ़ाव आए हो लेकिन रफी साहब की लोकप्रियता में कोई कमी नहीं आई हैं।
लेकिन अब इसमेे कोई हैरान होने की बात नहीं है, और ना किसी को फर्क पड़ता है जब पूरा बाॅलीवुड दो भागों में विभाजित हो चुका है तब अगर मौहम्मद रफी का अपमान हो जाता है तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं माना जाता।
अपने अलग-अलग कारणों को लेकर चर्चा में आई फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ अब अपने कंट्रोवर्शियल डायलॉग्स की वजह से सुर्खियों में है।
फिल्म में रणबीर कपूर रफी की तरह सिंगर बनना चाहते हैं जिस पर अनुष्का का डायलॉग है ‘रफी, वो तो गाते कम थे और रोते ज्यादा थे।’ इसी संवाद पर अब नया विवाद खड़ा हो गया है।
मशहूर गायक मौहम्मद अजीज ने सोशल मीडिया पर 5 मिनट का विडियो पोस्ट किया है जिसमें उन्होंने कहा है “किस बेवकूफ ने लिखे हैं ये डायलॉग्स? करण जौहर को मैं बहुत काबिल समझता था, पता नहीं उन्होंने कैसे इस डायलॉग को पास किया।
इसके बाद मशहूर गायक सोनू निगम ट्विटर पर पूछा क्या सच में ये डायलॉग है कि ‘रफी, वो तो गाते कम थे और रोते ज्यादा थे।’ तब लोगों ने अपनी स्वीकृति कि ऐसा दिखाया गया है।

https://twitter.com/sonunigam/status/793058523366260736

इसके बाद कई ट्विटर यूजर्स ने माना कि मौहम्मद रफी का इस डॉलयाग से अपमान हुआ है। जबकि अधिकतर लोगों ने ये भी कहा इसमें अपमान वाली बात नही।

https://twitter.com/cool_nikkki/status/793061870597005314

कुछ घंटे बाद, सोनू ट्विटर पर दोबारा आए और लिखा, भारत में सभ्यता और वरिष्ठ नागरिकों के लिए सम्मान गुजरे जमाने की बात हो गई है।

उन्होंने लिखा है, “RIP अदब। हम भारतीयों, अब आपकी जरूरत नहीं है।”

https://twitter.com/sonunigam/status/793109487791984642

मोदी सरकार के आने के बाद जिस तरह की विचारधारा ने भारत में अपने पैर पसारे है उससे साफ जाहिर हो गया है कि लोगों को एक इंसान के तौर पर देखने की बजाय हिन्दू या मुसलमान के चश्में से देखा जाए। शायद इसिलिए सोनू निगम ने रफी साहब के बारें ये सोचकर कहा होगा कि अब हमें आपकी जरूरत नहीं है प्रिय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here