सामाजिक कार्यकर्ता ने जताई मॉब लिंचिंग की आशंका, शिवराज के मंत्री पर लगाया यह गंभीर आरोप

0

पिछले कुछ दिनों से शक के आधार पर भीड़ का लोगों के साथ हो रही क्रूरता थमने का नाम नहीं ले रही है। देश के अलग-अलग राज्यों में लगातार बढ़ रहीं मॉब लिंचिंग की घटनाओं के बीच मध्य प्रदेश के सामाजिक कार्यकर्ता विनायक परिहार ने अपने ऊपर भीड़ के जरिए जानलेवा हमला कराए जाने की आशंका जताई है।

मॉब लिंचिंग

समाचार एजेंसी आईएनएस के हवाले से एक न्यूज़ वेबसाइट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, सामाजिक कार्यकर्ता विनायक परिहार ने इस संदर्भ में राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर हालात के बारे में उन्हें जानकारी दी है। परिहार ने अपने पत्र में आरोप लगाया है कि प्रदेश के मंत्री जालम सिह पटेल के लोगों ने उन पर जानलेवा हमले की धमकी दी है।

रिपोर्ट के मुताबिक, सामाजिक कार्यकर्ता विनायक परिहार अरसे से गन्ना किसानों की लड़ाई लड़ रहे हैं और रेत माफियाओं के खिलाफ लगातार संघर्ष करते रहे हैं। विनायक परिहार बुधवार को किसानों के मुद्दे को लेकर गोटेगांव में सभा करने वाले हैं, इसे लेकर ही इस प्रकार की धमकियां उन्हें दी जा रही हैं।

इन धमकियों के मद्देनजर सामाजिक संस्था, ‘विचार मध्य प्रदेश’ ने पुलिस महानिदेशक से मांग की है कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए और विनायक परिहार और उनके सभी साथियों को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराई जाए।

रिपोर्ट के मुताबिक, परिहार की ओर से लगाए गए आरोपों को लेकर मंत्री जालम सिंह पटेल से उनका पक्ष जानने के लिए संपर्क किया गया तो वे उपलब्ध नहीं हुए।

विचार मध्य प्रदेश के अक्षय हुंका ने परिहार के पत्र के आधार पर बताया है कि परिहार अरसे से गन्ना किसानों के बीच जाकर जन जागरण अभियान चला रहे हैं, और इस बात से राज्य सरकार के मंत्री नाराज हैं।

बता दे कि पिछले दिनों झारखंड के पाकुड़ जिले में कथित बीजेपी युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश के साथ मारपीट की थी। इन लोगों ने यह हमला किया उस वक्त किया था जब स्वामी अग्निवेश एक कार्यक्रम में शामिल होने पाकुड़ पहुंचे थे और उसी समय होटल से बाहर निकले थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here