‘ईश्वर के लिखे लेख को नहीं बदल पाये निरहुआ’, हार के बाद सोशल मीडिया पर यू हो रहे हैं ट्रोल, पुराना वीडियो वायरल

0

उत्तर प्रदेश की हाईप्रोफाइल सीट आजमगढ़ संसदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के टिकट पर चुनाव लड़े भोजपुरी अभिनेता दिनेश लाल यादव (निरहुवा) उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव के सामने नहीं टिक पाए। निरहुआ, अखिलेश यादव से 2 लाख से ज्यादा वोटों से हार गए।

निरहुवा
फाइल फोटो

लेकिन हार के बाद भी उनका जज्बा अभी भी कायम है। निरहुआ ने ट्विटर पर पीएम नरेंद्र मोदी के साथ अपनी सेल्फी अपडेट की। एक दूसरे ट्वीट में अखिलेश समेत विपक्षियों पर तंज कसते हुए एक्टर ने लिखा, “ना ये देश रुकेगा, ना ये देश झुकेगा, आए तो मोदी ही।”

निरहुआ के इस ट्वीट पर लोगों का रिएक्शन भी सामने आए हैं। कई यूजर्स ने एक्टर को हार की सांत्वना देते हुए कहा कि वे यूं ही आजमगढ़ में बने रहें। वहीं, कई यूजर्स ने उनके हार के बाद उन्हें अपने निशाने पर ले लिया और जमकर ट्रोल करने लग गए।

एक यूजर ने निरहुआ पर तंज सकते हुए लिखा, “निरहुआ ईश्वर के लिखे को नहीं बदल पाये मतलब अभी भी ईश्वर हैं।” एक अन्य यूजर ने लिखा, “अरे ऊ निरहुआ कहां है जो बोल रहा था भगवान का लिखा भी मैं मिटा सकता हूं। मुझे हराने वाला कोई पैदा नहीं हुआ।”

एक अन्य यूजर ने लिखा, “निरहुआ नही दिख रहा है कही भगवान के लेख मिटाने के चक्कर मे खुद तो नही मिट गया पता लगाओ।” इसी तरह तमाम यूजर्स अपनी अलग-अलग प्रतिक्रिया दे रहें है।

देखिए कुछ ऐसे ही ट्वीट

बता दें कि, एक टीवी चैनल से बात करते हुए निरहुवा ने अहंकार भरे अंदाज में कहा था कि मुझे हराने वाला कोई पैदा नहीं हुआ, क्योंकि मैं किसी का गुलाम नहीं हूं। भगवा पार्टी के प्रत्याशी यहीं नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा था कि वो ईश्वर के लिखे लेख को भी मिटा सकते हैं। बता दें कि आजमगढ़ से बीजेपी की टिकट पर चुनाव लड़ रहे दिनेश लाल यादव निरहुआ का मुकाबला राज्य के यूपी पूर्व सीएम अखिलेश यादव से था।

टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत के दौरान एंकर के एक सवाल पर निरहुवा ने कहा, “सबसे पहले तो आपसे मैं ये बताता हूं कि मुझे हराने वाला कोई पैदा नहीं हुआ है, क्योंकि मैं स्वतंत्र आदमी हूं। मेरी विचारधारा स्वतंत्र है… मैं किसी का गुलाम नहीं हूं। स्वातंत्र्य भाव नर का अदम्य, वह जो चाहे कर सकता है, शासन की क्या बिसात, पांव विधि की लिपि पर धर सकता है। मैं ईश्वर (भगवान) के लिखे हुए लेख को भी हटा सकता हूं… मिटा सकता हूं। अगर मैं अपनी सोच रखता हूं, विचार रखता हूं। मैं यहां किसी के पीछे घूमने वाला व्यक्ति नहीं हूं। ये भूल जाइए कि मुझे यहां कोई हरा पाएगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here