सोशल मीडिया: “जब ‘नींबू-मिर्च’ ही पावरफुल है, तो राफेल जैसे महंगे फाइटर प्लेन लेने की क्या जरूरत?”

0

फ्रांस से खरीदे गए 36 राफेल लड़ाकू विमानों की श्रृंखला में प्रथम विमान मंगलवार को भारत को मिल गया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस मौके परंपरानुसार शस्त्र पूजा की। मंगलवार को फ्रांस में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल विमान पर ऊं लिखा और विमान में रक्षा सूत्र बांधा। उन्होंने विमान पर नारियल, फूल आदि चढ़ाए और विमान के टायरों के नीचे नीबू भी रखे। राफेल लड़ाकू विमान की पूजा करते हुए राजनाथ सिंह की कुछ तस्वीरें भी सामने आई है, जो अब सोशल मीडिया खूब वायरल हो रही हैं। इस पर सोशल मीडिया यूजर्स भी जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

नींबू

राफेल लड़ाकू विमान की पूजा करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की तस्वीरें सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर चर्चा होने लगी की क्या देश के रक्षा मंत्री के लिए अंधविश्वास को बढ़ावा देना उचित है। फेसबुक पर एक यूजर ने लिखा, “भारत देश की रक्षा के लिए राफेल खरीदता है, फिर वे राफेल की रक्षा के लिए नींबू खरीदते हैं”।

वहीं, अलका लांबा ने लिखा, “सोचो अभी तो फ्रांस निर्मित Rafale भारत में पहुँचा भी नहीं और आने से पहले ही हासिल की पहली बड़ी कामयाबी। करा 2 हरे भरे नींबूओं का सफ़ाया और भारत को दुश्मन की बुरी नजरों से भी बचाया।”

वहीं, एक अन्य यूजर ने लिखा, “जब ‘नींबू मिर्च’ ही पावरफुल है, तो राफेल जैसे महंगे फाइटर प्लेन लेने की क्या जरूरत? बॉर्डर पर नींबू-मिर्च लटका दीजिये।” एक अन्य यूजर ने लिखा, “राफेल के नीचे नींबू मिर्ची रखी गई,यह अंधविश्वास है या श्रद्धा।” बता दें कि, इसी तरह तमाम यूजर्स अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

देखिए कुछ ऐसे ही ट्वीट

वहीं, फ्रांस में राफ़ेल का शस्त्र पूजन करने के बाद राजनाथ सिंह ने मंगलवार को एक ट्वीट कर लिखा, “विजयादशमी ने अवसर पर आज फ़्रांस में किया राफ़ेल का शस्त्र पूजन। दशमी के अवसर पर शस्त्रों का पूजन भारत की प्राचीन परम्परा रही है।”

राजनाथ सिंह ने राफेल लड़ाकू विमान में करीब 25 मिनट उड़ान भरने के बाद कहा कि भारत किसी अन्य देश को धमकाने के लिए हथियार नहीं खरीदता है। उन्होंने कहा कि यह लड़ाकू विमान भारतीय वायुसेना को और मजबूती प्रदान करेगा। फ्रांस से खरीदे गये 36 राफेल लड़ाकू विमानों की श्रृंखला में प्रथम विमान सौंपे जाने के लिये मेरिनियाक में आयोजित एक समारोह में सिंह अपनी फ्रांसीसी समकक्ष फ्लोंरेंस पार्ले के साथ शरीक हुए, जहां सिंह को औपचारिक रूप से प्रथम राफेल विमान सौंपा गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here