सोशल मीडिया: “मुलायम सिंह जी को उनकी पार्टी खुद सीरीयसली नहीं लेती, पता नहीं बीजेपी क्यों ले रही है”

0

समाजवादी पार्टी के संरक्षक और देश के पूर्व रक्षामंत्री मुलायम सिंह यादव ने बुधवार (13 फरवरी) को लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि वह उनके फिर से प्रधानमंत्री बनने की कामना करते हैं। इस दौरान सदन में मौजूद यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी मुस्कुराती नजर आईं। वहीं, प्रधानमंत्री मोदी ने भी आभार व्यक्त करते हुए कहा कि ‘अब तो मुलायम सिंह जी ने भी आशीर्वाद दे दिया है।’

मुलायम सिंह यादव
file photo: alchetron.com

संसद के बजट सत्र की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित होने से पहले दलों के नेताओं के पारंपरिक संबोधन के दौरान मुलायम सिंह यादव ने यह भी कहा कि हमारी कामना है कि जितने सदस्य इस सदन में हैं, सबके सब एक बार फिर लौटकर आएं। उनके इन बयानों पर सत्ता पक्ष के सदस्यों ने मेजें थपथपाकर खुशी जताई। यादव ने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को उनके कामकाज के लिए धन्यवाद देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी तारीफ की और कहा कि प्रधानमंत्री ने सबके साथ मिलजुलकर काम किया है। सबको साथ लेकर चलने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को हमारी बधाई है और हमारी कामना है कि वह फिर से प्रधानमंत्री बनें।

यादव ने ये बातें एक से ज्यादा बार कहीं और इस दौरान सदन में उपस्थित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाथ जोड़कर उनका अभिवादन किया। बाद में प्रधानमंत्री मोदी ने भी अपने भाषण में 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद एक बार फिर बहुमत की सरकार आने की वकालत करते हुए कहा कि ‘अब तो मुलायम सिंह जी ने भी आशीर्वाद दे दिया है।’

वहीं, इस दौरान सदन में मौजूद यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी मुस्कुराती नजर आईं। वहीं मुलायम सिंह यादव के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ‘मैं उनसे असहमत हूं लेकिन मुलायम सिंह यादव जी का राजनीति में एक रोल है और मैं उनकी बात का सम्मान करता हूं।’

वहीं, मुलायम सिंह यादव के इस बयान पर सोशल मीडिया यूजर्स भी जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहें है। पत्रकार मानक गुप्ता ने लिखा, “मुलायम सिंह जी को उनकी पार्टी ख़ुद सीरीयसली नहीं लेती, पता नहीं बीजेपी क्यों ले रही है।” वहीं कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने ट्वीट कर लिखा, “नेताजी का भाषण सुनकर दृढ़ विश्वास हो गया कि राजनीति में रिटायरमेंट की उम्र ज़रूर तय होनी चाहिए।”

वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा, “माननीय मुलायम सिंह के बातों ने मुझे बेचैन कर दिया बात समझ मे नहीं आ रहा है क्या यह दुखी पिता का किरदार है या क्या शत्रु के प्रति दुआ और पुत्र के प्रति बदुआ है देखना दिलचस्प होगा।”

देखिए कुछ ऐसे ही ट्वीट

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here