लोकसभा चुनाव: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर लगाया अमेठी में बूथ कैप्चरिंग का सनसनीखेज आरोप, चुनाव आयोग से की कार्रवाई की मांग

0

लोकसभा चुनाव 2019 के पांचवें चरण में सात राज्यों की 51 सीटों पर मतदान सोमवार (5 मई) सुबह से जारी है। इस चरण में उत्तर प्रदेश से 14, राजस्थान से 12, मध्यप्रदेश और पश्चिम बंगाल की सात-सात, बिहार की पांच, झारखंड की चार और जम्मू एवं कश्मीर की दो सीटें (लद्दाख और अनंतनाग) पर मतदान हो रहा है। 51 सीटों पर हो रहे चुनावों में राजनाथ सिंह, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और स्मृति ईरानी सहित 674 उम्मीदवारों के भविष्य का फैसला करीब नौ करोड़ मतदाता करेंगे।

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में उत्तर प्रदेश की 14 लोकसभा सीटों के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं। मतदान सुबह सात से शुरू हुआ और शाम छह बजे संपन्न होगा। इस बीच अमेठी से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की उम्मीदवार और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए बूथ कैप्चरिंग का सनसनीखेज आरोप लगाया हैं। ईरानी ने अमेठी से उनके विरोधी राहुल गांधी पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि राहुल गांधी बूथ कैप्चरिंग के लिए अमेठी आए हैं।

इस मामले को लेकर केंद्रीय मंत्री ने चुनाव आयोग को ट्वीट कर कार्रवाई की मांग की है। स्मृति ने एक महिला का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि उम्मीद है कुछ एक्शन लिया जाएगा। स्मृति द्वारा ट्वीट किए वीडियो में एक बुजुर्ग महिला कथित तौर पर अमेठी के गौरीगंज में जबरन कांग्रेस को वोट डलवाने का आरोप लगा रही है। बता दें कि स्मृति ईरानी अमेठी में राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं।

वीडियो में महिला आरोप लगा रही है कि बूथ के पीठासीन अधिकारी ने उनसे जबरदस्ती कांग्रेस के पंजे पर वोट दिलवा दिया जबकि वह बीजेपी को वोट करने वाली थीं। वीडियो के मुताबिक, यह मामला गौरीगंज के गूजरटोला बूथ नंबर 316 का है, जहां महिला ने पीठासीन अधिकारी ने जबरदस्ती वोट कराने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘हाथ पकड़कर जबरदस्ती पंजा पर धर दिहिन हम देहे जात रहिन कमल पर। ( कमल पर देना चाहती थी, जबरदस्ती पंजा पर डलवा दिया)।’

जबरन कांग्रेस को वोट डलवाने के महिला के आरोप पर स्मृति इरानी ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगाया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मैंने प्रशासन और चुनाव आयोग (अमेठी में बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगाते हुए) को एक ट्वीट किया है, आशा है कि वे लोग कार्रवाई करेंगे। देश के लोगों को तय करना है कि राहुल गांधी की इस तरह की राजनीति को सजा मिलनी चाहिए या नहीं?

बता दें कि इस चरण में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और इसके सहयोगियों के लिए काफी कुछ दांव पर लगा हुआ है, क्योंकि 2014 के चुनावों में इसने इनमें से 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी और दो सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की थी जबकि शेष पर अन्य विपक्षी दलों ने जीत हासिल की। चुनाव आयोग ने 94 हजार मतदान केंद्रों का निर्माण किया है और सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

सोनिया, राहुल, स्मृति और राजनाथ जैसी बड़ी हस्तियों की किस्मत EVM में होगी कैद

उत्तरप्रदेश में 14 सीटों पर बड़े राजनीतिक हस्तियों के बीच चुनावी टक्कर है जिनमें केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी, संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शामिल हैं। बीजेपी ने 2014 में इनमें से 12 सीटों पर जीत हासिल की थी और कांग्रेस ने रायबरेली और अमेठी सीटों पर कब्जा बरकरार रखा था। पूरे राज्य में 80 सीटों में से केवल इन्हीं दो सीटों पर कांग्रेस को फतह मिली थी। अमेठी और राय बरेली में सपा-बसपा गठबंधन ने अपने उम्मीदवार नहीं उतारे हैं और इन दोनों सीटों को कांग्रेस के लिए छोड़ रखा है। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ से दोबारा मैदान में हैं जबकि स्मृति ईरानी अमेठी में राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here