दाउद इब्राहीम के नौ में से छह पाकिस्तानी पते सही निकले – संयुक्त राष्ट्र

0

भारत की ओर से संयुक्त राष्ट्र समिति को दी गयी पाकिस्तान में छिपे अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहीम के नौ पतो की सूचि में तीन पते गलत है। संयुक्त राष्ट्र की समिति ने इन तीनो गलत पतों को सूची से हटा दिया गया है।

भाषा की खबर के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अलकायदा प्रतिबंध समिति द्वारा सूची में से जो पते हटाए जा रहे हैं, उनमें से एक पता संयुक्त राष्ट्र में इस्लामाबाद की दूत मलीहा लोधी के आवास का है।

हालांकि भारत की ओर से उपलब्ध करवाए गए छह अन्य पतों को संशोधित नहीं किया गया है। भारत ने एक डोजियर में इन नौ पतों का उल्लेख करते हुए कहा था कि दाउद इन स्थानों पर अक्सर आता है।

Also Read:  शर्मनाक: एंबुलेंस नहीं मिलने पर कंधे पर बेटी का शव ले जाने पर मजबूर हुआ गरीब पिता

सुरक्षा परिषद की आईएसआईएल और अलकायदा प्रतिबंध समिति ने दाउद से जुड़ी इस जानकारी में कल संशोधन किया। वर्ष 1993 में मुंबई में हुए श्रृंखलाबद्ध विस्फोटों के मास्टरमाइंड से जुड़े इस पते को समिति ने रेखांकित किया और काट दिया।

इस संशोधन के बारे में पूछे जाने पर भारत के एक शीर्ष अधिकारी ने पीटीआई भाषा को बताया कि सूचीबद्ध जानकारी में दाउद का एक पता गलत था। यह पता ‘‘राजदूत मलीहा लोधी का था, दाउद का नहीं।’’ भारत की ओर से पिछले साल अगस्त में तैयार किए गए डोजियर में पाकिस्तान में दाउद के नौ पते शामिल किए गए थे। यह इस बात का सबूत था कि दाउद पाकिस्तान में छिपा हुआ है।

Also Read:  Pakistan call India 'mother of terrorism' in response to Sushma Swaraj's speech

इस्लामाबाद लगातार इस बात से इंकार करता रहा है कि दाउद पाकिस्तान में रहता है। वही दाउद को जुलाई 1996 में कराची और जुलाई 2001 में रावलपिंडी से पासपोर्ट जारी किया गया। इसमें एक पता कराची के नूराबाद हिल एरिया का है, जहां दाऊद का बंगला है। इसके अलावा कराची के मार्गला रोड एफ-62 स्ट्रीट, व क्लिफटन कराची में मोइन पैलेस के दूसरे माले पर भी दाऊद का घर है।

Also Read:  बंगाल में गर्भवती महिलाओं के लिए मोबाइल अलर्ट सेवा

दाउद वर्ष 1993 में मुंबई में हुए सीरियल बम धमाकों के मामले में भारत में वांछित है। इन हमलों में 257 लोग मारे गए थे और लगभग एक हजार लोग घायल हुए थे। वह अन्य आतंकी हमलों का भी मास्टर माइंड बताया जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here