पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के लिए मतदान जारी, हिंसक झड़प में 6 लोगों की मौत, कई घायल

0

पश्चिम बंगाल में सोमवार (14 मई) को ग्राम पंचायत चुनाव के लिए वोटिंग हो रही है। 2019 लोकसभा चुनाव के पहले राज्य में ये आखिरी महत्वपूर्ण चुनाव है। चुनाव के नतीजे 17 मई को आएंगे। दोपहर 1 बजे तक 41.51 प्रतिशत मतदान हुआ है। हालांकि राज्य में पंचायत चुनाव के लिए जारी मतदान के लिए किए गए सुरक्षा इंतजामों की पोल खुल गई है। अलग-अलग स्थानों पर हुई झड़पों में 6 लोगों के मारे जाने की खबर है। मतदान शुरु होने के साथ ही कई स्थानों से हिंसा और बूथ पर कब्जा करने की रिपोर्ट मिल रही है। अलग-अलग स्थानों पर हुई झड़पों में 20 से अधिक लोग घायल हो गए हैं।

Representational image (Photo: Getty Images)

भांगर में कथित तौर पर तृणमूल कार्यकर्ताओं द्वारा बूथ पर कब्जा करने के विरोध में स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर दी। वहीं कूचबिहार में प्रतिद्वंद्वी दलों के कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट और हिंसा की खबर है। कई मतदान केंद्रों पर मतदाताओं को नहीं पहुंचने देने के भी आरोप लगाये जा रहे हैं।

वहीं, सामने आए एक वीडियो में कथित तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) कार्यकर्ता एक पोलिंग बूथ के बाहर लोगों को वोट डालने जाने से रोकते हुए दिख रहे हैं और भांगर में टीएमसी पर बूथ कैप्चरिंग के आरोप लगे हैं। वहीं पश्चिम बंगाल के बीरपाड़ा में बूथ कैप्चरिंग के दौरान हुई हिंसा में पांच स्थानीय पत्रकार घायल हो गए।

पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में दो गुटों के बीच हिंसक झड़प में करीब 20 लोगों के घायल होने की खबर है। घायलों ने उन पर हमला करने का आरोप तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर लगाया है। समाचार एजेंसी से बातचीत में उन्होंने बताया, ‘हम वहां मतदान करने गए थे लेकिन टीएमसी के लोगों ने लाठियों से हम पर हमला कर दिया।’ सभी घायलों को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।

बता दें कि पिछले दिनों इस चुनाव को लेकर राज्य में सत्ताधारी तृणमूल, बीजेपी और लेफ्ट के बीच जमकर जुबानी जंग लड़ी गई। मामला अदालत तक पहुंचा और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आज वहां चुनाव हो रहे हैं। चुनाव के लिए सोमवार सुबह सात बजे से मतदान प्रक्रिया शुरू हो गई है। सुबह से ही समाज के विभिन्न तबके के लोगों को मतदान केंद्रों के बाहर लंबी-लंबी कतारों में कतारों में खड़े देखा जा रहा है।

समाचार एजेंसी वार्ता के मुताबिक राज्य में 621 जिला परिषदों और 6157 पंचायत समितियों के अलावा 31827 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान हो रहे हैं। राज्य निर्वाचन अायोग के अधिकारियों ने बताया कि असम, ओडिशा, सिक्किम और आंध्र प्रदेश से लगभग 1500 सुरक्षा बलों को राज्य में तैनात किया गया है। इसके अलावा राज्य पुलिस के 46 हजार और कोलकाता पुलिस के 12 हजार कर्मी भी सुरक्षा व्यवस्था में तैनात हैं। राज्य सरकार ने आबकारी, जेल और वन विभागों के लगभग दो हजार सुरक्षा कर्मियों को मतदान केंद्रों पर तैनात किया है।

पंचायत चुनावों के लिए जहां भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और कांग्रेस समेत सभी दलों के शीर्ष नेताओं ने प्रचार किया वहीं तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद को प्रचार से दूर रखा। उन्होंने लोगाें से उनकी सरकार द्वारा किए गये विकास के पक्ष में मतदान करने की अपील की। बंगाल के विभिन्न हिस्सों में हिंसा पर चिंता व्यक्त करते हुए बनर्जी ने पंचायत चुनावों के दौरान शांति बनाये रखने की भी अपील की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here