स्वामी चिन्मयानंद मामला: SIT ने जब्त किया BJP नेता का लैपटॉप और पेनड्राइव, घटना से संबंधित वीडियो क्लिप्स होने का शक

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा से संबंधित वसूली मामले में विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने भाजपा नेता डीपीएस राठौर का लैपटॉप और एक पेनड्राइव जब्त कर ली है। माना जा रहा है कि घटना से संबंधित वीडियो क्लिप्स इसी में हैं। चिन्मयानंद द्वारा दर्ज वसूली मामले में संदिग्ध भूमिका के लिए राठौर से एसआईटी ने रविवार को 12 घंटों तक पूछताछ की थी।

स्वामी चिन्मयानंद
फाइल फोटो

भाजपा नेता डीपीएस राठौर जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन हैं और राजस्थान के दौसा में भी मौजूद थे जहां एसआईटी की टीम ने 30 अगस्त को मेंहदीपुर बालाजी मंदिर के निकट लॉ स्टूडेंट को बरामद किया था। बता दें कि, चिन्मयानंद पर आरोप लगाते हुए वीडियो जारी करने के बाद स्टूडेंट 24 अगस्त को लापता हो गई थी। कानून की छात्रा ने अपनी शिकायत में कहा था कि अजीत सिंह ने उससे पेन ड्राइव ले लिया था, जिसमें उसके यौन शोषण के सबूत हैं।

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर के छोटे भाई राठौर ने बाद में संवाददाताओं से कहा, “मैं प्रशासन का सहयोग करने की कोशिश कर रहा था, लेकिन लग रहा है कि एसआईटी को कुछ गलतफहमी हो गई थी। मैं दौसा कुछ वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के आग्रह पर लापता छात्रा की तलाश में सहायता करने गया था।’

राठौर ने कहा कि उस समय उनके साथ एक अन्य बीजेपी नेता अजीत सिंह थे। अजीत सिंह वसूली मामले के आरोपी विक्रम का साले हैं। इससे पहले शनिवार को एसआईटी टीम ने दादरौल विधानसभा से पूर्व विधायक डीपी सिंह को पूछताछ के लिए समन भेजा। एसआईटी के कुछ अधिकारियों ने भी कुछ तथ्यों की पुष्टि के लिए जिला जेल में बंद आरोपी से पूछताछ की।

बताया जाता है कि मामले में एसआईटी ने अंतिम चरण में अपनी जांच तेज कर दी है क्योंकि चिन्मयानंद की जमानत अर्जी पर आठ नवंबर को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में बहस होनी है। अदालत ने एसआईटी से सात नवंबर तक जवाब मांगा है। उल्लेखनीय है कि, स्वामी सुखदेवानंद विधि महाविद्यालय में पढ़ने वाली एक छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल कर पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद पर गंभीर आरोप लगाए थे। चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने पीड़िता पर पूर्व केंद्रीय मंत्री से रंगदारी मांगने का एक मामला दर्ज कराया था।

पीड़िता के पिता ने पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के विरुद्ध भी एक मामला स्थानीय शहर कोतवाली में दर्ज कराया था। इन दोनों मामलों की जांच एसआईटी कर रही है। इस मामले में चिन्मयानंद, पीड़िता और तीन अन्य आरोपी जेल में बंद हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री से कथित तौर पर पैसे ऐंठने के आरोप में गिरफ्तार लॉ स्टूडेंट की जमानत याचिका पर 6 नवंबर को सुनवाई होगी। (इंपुट: आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here