BJP नेता स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लॉ छात्रा रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तार, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजी गई

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली यूपी के कानून की छात्रा को जबरन धन उगाही के मामले में एसआईटी ने बुधवार (25 सितंबर) को गिरफ्तार कर लिया है। उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। बता दें कि, स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के कुछ दिनों बाद छात्रा की गिरफ्तारी हुई है।

इससे पहले स्‍थानीय कोर्ट ने मंगलवार को छात्रा की अग्रिम जमानत की याचिका को स्‍वीकार कर लिया था और सुनवाई के लिए 26 सितंबर का दिन तय किया था। हालांकि, विशेष जांच दल (SIT) ने बुधवार सुबह लड़की को गिरफ्तार कर लिया। छात्रा को उसके घर से गिरफ्तार किया गया है। स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली छात्रा पर अपने दोस्तों के साथ मिलकर चिन्मयानंद से 5 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने का आरोप है।

एसआईटी आज सुबह पीड़िता के आवास पर पहुंची और उसके पिता को उसकी गिरफ्तारी का मेमो दिया। पुलिस के सूत्रों ने बताया कि पीड़िता को उसके आवास से सुबह लगभग सवा नौ बजे गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार करने वाली टीम में निरीक्षक दलबीर सिंह तथा पूनम के अलावा बड़ी संख्या में पुलिस कर्मी थे। एसआईटी बड़ी तादाद में पुलिस बल के साथ पीड़िता के आवास पर पहुंची। इस दौरान दोनों ओर की सड़क बंद कर दी गयी थी।

अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया कि घर से गिरफ्तारी के बाद पीड़िता को विशेष जांच दल ने एसीजेएम (अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट) विनीत कुमार की अदालत में पेश किया, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। पीड़िता के भाई ने संवाददाताओं से कहा ‘‘मेरी बहन का कोई अपराध नहीं होने के बावजूद उसे जेल भेज दिया गया है।’’ पीड़िता के पिता ने एक पुलिस अधिकारी पर भाजपा नेता चिन्मयानंद के साथ बेहद नरमी से व्यवहार करने का आरोप लगाया है।

चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया कि पांच करोड रुपए की रंगदारी मांगने का एक मैसेज 22 अगस्त को चिन्मयानंद के मोबाइल पर भेजा गया था, जिसकी रिपोर्ट शहर कोतवाली में 24 अगस्त की रात दर्ज कराई गई थी। इसी मामले में एसआईटी ने जांच के बाद संजय सिंह, विक्रम सिंह और सचिन सिंह तथा मिस ए पीड़िता को आरोपी बनाया था। रंगदारी मांगने के मामले में संजय, सचिन तथा विक्रम को एसआईटी ने 20 सितंबर को ही गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था। चौथी आरोपी पीड़ित छात्रा है।

पीड़िता के पिता ने अपहरण और जान से मारने की धमकी का मामला दर्ज कराया है। चिन्मयानंद को 20 सितंबर को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। रंगदारी मांगने के मामले में आरोपी बनाई गई पीड़िता ने कल अपर जिला जज सुधीर कुमार की अदालत में अग्रिम जमानत की याचिका दायर की थी जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया था और इस मामले में 26 सितंबर को साक्ष्य सहित सुनवाई का आदेश दिया था। लेकिन 26 सितंबर से पूर्व ही, आज विशेष जांच दल ने विधि छात्रा को गिरफ्तार कर लिया।

उल्लेखनीय है कि, स्वामी चिन्मयानंद पर उनके ही कॉलेज में पढ़ने वाली कानून की एक छात्रा ने दुष्कर्म और ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया था। बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की दो सदस्यीय विशेष पीठ गठित करवा कर पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित करने का निर्देश दिया था। पीड़ित छात्रा ने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट करके चिन्मयानंद पर रेप करने का आरोप लगाया था।

इस मामले में पीड़िता ने दिल्ली के लोधी गार्डन थाने में केस भी दर्ज कराया था। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मामले की जांच एसआईटी को सौंपी गई थी। चिन्मयानंद के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने पर रेप पीड़िता ने आत्महत्या करने की धमकी दी थी। पीड़िता ने कहा था कि, ‘‘शायद सरकार चाहती है कि मैं आत्महत्या कर लूं, जिसके बाद ही विश्वास होगा कि मेरे साथ गलत हुआ।’’ (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here