#MeToo: महिला पत्रकार के बाद अब मशहूर गायिका सोना महापात्रा ने सिंगर कैलाश खेर पर लगाए यौन उत्पीड़न के सनसनीखेज आरोप

0

भारत में बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री से शुरू हुए ‘मी टू’ अभियान ने अब हिंदी सिनेमा और सीरियल की दुनिया के बेहद कामयाब कलाकार और एक ‘संस्कारी’ शख्स की छवि रखने वाले आलोक नाथ के दरवाजे पर दस्तक दे दी है। आपको बता दें कि अभिनेत्री तनुश्री दत्ता द्वारा मशहूर अभिनेता नाना पाटेकर पर यौन शोषण का आरोप लगाए जाने के बाद अब फिल्म इंडस्ट्री की बाकी हस्तियों ने भी अपने साथ हुए यौन दुर्व्यवहार के खिलाफ आवाज उठानी शुरू कर दी है।

नाना पाटेकर के बाद जहां डायरेक्टर विकास बहल, मशहूर गायक कैलाश खेर, अभिनेता रजत कपूर, मॉडल जुल्फी सैयद, मशहूर लेखक चेतन भगत, ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ (एचटी) के राजनीतिक संपादक प्रशांत झा, केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री और पूर्व वरिष्ठ पत्रकार एमजे अकबर पर भी यौन दुर्व्यवहार के आरोप लगे, वहीं अब फिल्मों और टीवी जगत के ‘संस्कारी बाबू’ यानी अभिनेता आलोक नाथ पर भी यौन शोषण का आरोप लगा है।

इसी क्रम में अब मशहूर सिंगर कैलाश खेर पर गंभीर आरोप लगे हैं। ‘मी टू’ अभियान के जरिए जानी मानी सिंगर सोना महापात्रा सामने आईं हैं जिन्होंने कैलाश खेर पर सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। सोना महापात्रा ने कैलाश खेर पर जानबूझकर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाई हैं।

गायिका सोना महापात्रा ने संगीतकार और गायक कैलाश खेर पर शोषण के आरोप लगाए हैं। महापात्रा का कहना है कि खेर ने एक बार उनकी जांघ पर हाथ फेरा था। सोना ने गायक-संगीतकार राम संपत से शादी की है। गायिका ने एक ट्वीट के जरिए बताया कि एक आधिकारिक मुलाकात के दौरान कैलाश ने उनके साथ यह दुर्व्यवहार किया था।

महापात्रा ने लिखा, “मैं एक कांसर्ट के मामले में कैलाश से पृथ्वी कैफे मिलने गई थी। इस कांसर्ट में हम दोंनो को प्रस्तुति देनी थी। बातचीत के दौरान कैलाश ने मेरी जांघ पर हाथ फेरते हुए कहा कि ‘तुम बहुत सुंदर हो’। ‘अच्छा है कि तुम्हें एक संगीतकार (राम) मिला, न कि कोई अभिनेता’। मैं तुरंत ही वहां से निकल गई।” गायिका ने कहा कि इस घटना के बाद भी कैलाश नहीं रुके। उन्होंने कहा, “ढाका पहुंचने के बाद आयोजन स्थल जाने के दौरान कैलाश मुझे लगातार फोन कर रहे थे। मैंने फोन नहीं उठाया। इसके बाद कैलाश ने आयोजकों से फोन पर कहा कि वह मुझे कैलाश से उनके कमरे में मिलने के बारे में बताएं।”

महापात्रा ने कहा, “बात यह है कि कैलाश ने मेरे स्टूडियो में और कई परियोजनाओं में गाया था, जिनकी मैं निर्माता थी, और वह मुझे जानते थे कि मैं कितना मजबूत हूं और यह भी कि उन्होंने हाल ही में मेरे साथी राम संपत से एक गाने के लिए मदद मांगी थी। इसके बावजूद उन्होंने ऐसा किया। इस आदमी का इतना घमंड था।” आमिर खान के शो ‘सत्यमेव जयते’ में प्रस्तुति दे चुकीं महापात्रा ने कहा कि खेर कितनी महिलाओं से माफी मांगेंगे। अगर वह अभी शुरुआत करेंगे, तो माफी मांगने में उन्हें सारा जीवन लग जाएगा।

एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने जब महापात्रा से इस घटना को अब उठाने के बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा, “जिन लोगों ने भी मुझे कैलाश के साथ इस घटना को अब उजागर करने के लिए कोसा है, मैं उनसे कहना चाहती हूं कि यह मेरा जीवन है और मेरी पसंद है।” इस बारे में पूछे जाने पर कैलाश ने आईएएनएस को बताया कि वह इस आरोप को सुनकर बेहद निराश हैं और उन्हें इस घटना के बारे में न ही कोई जानकारी है और न ही उन्हें यह घटना याद है।

कैलाश ने कहा, “जो भी लोग मुझे जानते हैं और मुझसे मिले हैं, वह इस बात को भी जानते हैं कि मैं इंसानियत का कितना सम्मान करता हूं, खासकर महिलाओं का। मीडिया के लोगों की मैं अधिक इज्जत करता हूं, क्योंकि उनका काम मुश्किल है।”

#MeToo के जरिए खुलकर सामने आ रही हैं महिलाएं

गौरतलब है कि हॉलीवुड के फिल्मकार हार्वे वाइंस्टीन के खिलाफ यौन शोषण का मामला अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित होने के बाद से विश्व भर की महिलाएं खामोशी तोड़ते हुए ‘मी टू’ अभियान के जरिए अपनी-अपनी बाते खुलकर रख रही हैं। इस अभियान के जरिए कई बॉलीवुड अभिनेत्रियां भी खुलकर सामने आई हैं। विशेषकर तनुश्री दत्ता के विवाद के बाद से ‘मी टू’ अभियान काफी तेजी के फैल रहा है। तनुश्री दत्ता के नाना पाटेकर पर आरोप लगाने के बाद, महिलाओं की ऐसी कई और आवाजें सोशल मीडिया पर बुलंद होने लगी हैं।

अब महिला पत्रकार भी उन औरतों में शामिल हो गई हैं जिन्होंने सोशल मीडिया पर अपने यौन उत्पीड़न के अनुभव लिखने शुरू कर दिए हैं। आपको बता दें कि यौन उत्पीड़न, यानी किसी के मना करने के बावजूद उसे छूना, छूने की कोशिश करना, यौन संबंध बनाने की मांग करना, सेक्सुअल भाषा वाली टिप्पणी करना, पोर्नोग्राफी दिखाना या कहे-अनकहे तरीके से बिना सहमति का सेक्सुअल बर्ताव करना होता है। इन दिनों फिल्म, मीडिया और इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से जुड़ी हस्तियों पर लगे यौन प्रताड़ना के आरोप से सोशल मीडिया पर चर्चा गर्म है।

#MeToo और #TimesUp अभियान के तहत भारतीय महिलाएं आपबीती बता रही हैं। इसमें अपने साथ हुए दुर्व्यवहारों और प्रताड़ना को सोशल मीडिया पर साझा कर रही हैं। सोशल मीडिया पर ये महिलाएं कुछ सबूत भी पेश कर रही हैं। इन आरोपों के बाद यह बहस तेज हो गई है कि कैसे किसी ऑर्गेनाइजेशन या दफ्तर के भीतर ही सारी चीजें घटित हो रही हैं और किसी को भनक तक नहीं लग रही। यौन उत्पीड़न के आरोपों से जुड़े कई संस्थानों ने अब कार्रवाई की बात कही है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here