दिल्ली: शूटर मनु भाकर ने एयर इंडिया के अधिकारियों पर लगाया ‘अपमान’ करने का आरोप, खेल मंत्री किरण रिजिजू को देना पड़ा दखल

0

तोक्यो ओलंपिक में पदक की उम्मीद निशानेबाज मनु भाकर ने दिल्ली से भोपाल की उड़ान लेते समय एयर इंडिया के दो कर्मचारियों द्वारा कथित तौर पर ‘अपमान’ और ‘उत्पीड़न’ किए जाने के कारण उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। राष्ट्रमंडल खेल और युवा ओलंपिक की स्वर्ण पदक विजेता 19 वर्ष की पिस्टल निशानेबाज मनु खेलमंत्री किरेन रीजीजू के दखल के बाद ही विमान में बैठ सकी। मनु ने इसके लिये खेलमंत्री को धन्यवाद दिया और उम्मीद जताई कि दिल्ली में एयर इंडिया के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। एयर इंडिया ने भी अपने कर्मचारियों के बर्ताव के लिये माफी मांगी है।

मनु भाकर

मनु भाकर ने अपने पहले ट्वीट में लिखा, “आईजीआई दिल्ली (दिल्ली एयरपोर्ट) से भोपाल (एमपी शूटिंग अकैडमी) ट्रेनिंग के लिए जा रही हूं। मुझे ट्रेनिंग के लिए अपने हथियार और गोलियों की जरूरत है। एयर इंडिया के अधिकारियों से अनुरोध है कि इज्जत नहीं दे सकते हैं तो कम से कम खिलाड़ियों की बेइज्जती न करें। कृपया पैसे की डिमांड न करें। मेरे पास डीजीसीए (Directorate General of Civil Aviation, नागर विमानन महानिदेशालय) की परमिट है।”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “मुझे IGI दिल्ली में फ्लाइट AI 437 में सवार होने की इजाजत नहीं दी जा रही है। सभी वैध दस्तावेजों की जांच और DGCA परमिट के बावजूद अब 10,200 रुपये की मांग की जा रही है। एयर इंडिया के प्रभारी मनोज गुप्ता डीजीसीए को मान्यता नहीं देते हैं। अपने इस ट्वीट में उन्होंने पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी को टैग किया।

मनु ने कहा ,‘‘मैने जो अपमान और उत्पीड़न झेला, उसके लिये वे जिम्मेदार है। अपने कर्मचारियों (मनोज गुप्ता और एक अन्य सुरक्षाकर्मी) को बचाने की कोशिश करके एयर इंडिया अपनी छबि और खराब करेगा।’’ उन्होंने कहा ,‘‘एयर इंडिया अब कह रहा है कि वे सिर्फ दस्तावेज मांग रहे थे और अपना काम कर रहे थे लेकिन मुझे यकीन है कि सीसीटीवी में सब रिकार्ड होगा। आप देख सकते हैं। उन्होंने मेरा मोबाइल छीना और मेरी मां की खींची तस्वीर डिलीट की।’’

रीजीजू ने इस मसले का जिक्र करते हुए मनु को ‘भारत का गौरव’ बताया। एयर इंडिया ने ट्वीट किया ,‘‘हम आपको हुई असुविधा के लिये क्षमाप्रार्थी हैं। हम इस मसले की विस्तार से जानकारी आपके मोबाइल नंबर के साथ चाहते हैं ताकि आपकी आगे सहायता कर सकें।’’

मनु ने कहा कि अपनी पिस्तौल के साथ यात्रा करने की नागर विमानन महानिदेशालय से मंजूरी और सारे वैध दस्तावेज साथ होने के बावजूद उनके साथ ऐसा बर्ताव किया गया। उन्होंने कहा ,‘‘मैने कहा भी कि मैं निशानेबाज हूं और भारत के लिए ओलंपिक खेलने वाली हूं तो उन्होंने कहा कि आप ओलंपिक खेलों या नेशनल्स, हमें फर्क नहीं पड़ता।’’

मनु ने कहा ,‘‘उनका बर्ताव अस्वीकार्य था। कम से कम खिलाड़ी को थोड़ा तो सम्मान दें और इस तरह से अपमान नहीं करे। समस्या पैसा नहीं उनका बर्ताव है। मंत्रालय हमारे सारे खर्च उठाता है।’’

एक अन्य पोस्ट में एयर इंडिया ने लिखा ,‘‘दिल्ली हवाई अड्डे पर हमारी टीम ने पुष्टि की है कि हमारे काउंटर पर अधिकारी ने सिर्फ वैध दस्तावेज मांगे थे जो नियमों के तहत था।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here