मोदी के मंत्री जनरल वीके सिंह ने मृत फौजी के मानसिक संतुलन पर सवाल उठाया, पहले मृत दलित बच्चों की तुलना कुत्तों से की थी

2
ओआरओपी की मांग को लेकर सुसाइड करने वाले पूर्व सैनिक की आत्महत्या को बीजेपी के केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने बयान देकर विवादों में लाकर खड़ा कर दिया है।
बीजेपी नेता मंत्री वीके सिंह का सैनिक राम किशन ग्रेवाल के बारें में कहना है कि पूर्व सैनिक की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी। इससे पहले भी हरियाणा में दलित परिवार को जलाये जाने पर पूर्व बीजेपी नेता ने अशोभनीय टिप्पणी की थी उन्होंने दलित बच्चों की तुलना कुत्तों से की थी। जिस पर बाद में काफी विवाद भी हुआ था।
वीके सिंह
केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने ओआरओपी की मांग लेकर सुसाइड करने वाले पूर्व सैनिक की मानसिक स्थिति पर सवाल उठाते हुए मृत सैनिक राम किशन ग्रेवाल को मानसिक रूप से बीमार होना बताया है।
आगे उन्होंने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि राहुल गांधी को इस मुद्दे को राजनीतिक रंग नहीं देना चाहिए। सर्वविविद है कि सैनिक राम किशन ग्रेवाल की सुसाइट के पीछे ओआरओपी की मांगों का पूरा ना होना बताया जा रहा है। ऐसे में सरकार के मंत्री का इस तरह का बयान देना सरकार की राजनीतिक इच्छाशक्ति को जाहिर करती हैं

Also Read:  DU के किताब में 'स्कर्ट की तरह छोटा' ईमेल लिखने की सलाह पर विवाद

2 COMMENTS

  1. जनरल वी के सिंह के ‘कांग्रेस के टिकट पर सरपंच का चुनाव’ तथा ‘रामकिसन ग्रेवाल को कम पेंशन मिलने में बैंक की गलती’ (जिसे बैंक मेनेजर नकार चुके हैं) आदि बयानों से तो लगता है कि इनकी DOB की तरह commissioned officer बनने के लिए प्रयोग किया गया इनका high school का सर्टिफिकेट भी fake ही था.

    हमारे नेताओं के लिए यह विषय विचार करने योग्य है कि जब SSB से निकले आदरणीय जनरल साहब तक बुद्धिमता में इस स्तर के हैं तो अन्य छोटे commissioned officers की बुद्धिमता का क्या स्तर होगा—तथा—जवान और JCO कैसे इन सबकी इस तरह की मूर्खतापूर्ण हरकतों को वर्षों तक झेलते होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here