त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पंडितों पर आयकर के छापे से भड़की शिवसेना कहा,- सरकार को मिलेगा पुरोहितों का श्राप

0

त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पुुरोहितों पर आयकर विभाग के छापेमारी को लेकर शिवसेना ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

सामना के संपादकीय में छपे एक लेख, जिसका शीर्षक ‘गर्व से कहो हम हिंदू हैं’, में लिखा गया है कि काला पैसा समाज और अर्थव्यवस्था को लगा दीमक ही है।

उसे निकालना ही चाहिए, लेकिन पर काला पैसा बाहर निकालने के लिए सरकारी तंत्र कब किसके घर में घुस जाएगा, यह तय नहीं है। अब आयकर विभाग द्वारा यंबकेश्वर मंदिर के पुरोहितों के जनेऊ पर ही हाथ डालने से महाराष्ट्र का समस्त पुरोहित वर्ग सरकार को श्राप दे रहा होगा।

शिवसेना

सामना के मुताबिक काला पैसा यह सिर्फ मंदिर के पुरोहित के पास ही है। यह खोज करके मोदी सरकार ने खुद के धर्मनिरपेक्ष होने की भी बात जाहिर कर दी है, लेकिन जिस तरह के छापे हिंदू पुरोंहितों के घरों पर पड़े हैं, वैसे छापे ईसाई पुरोंहितों के घरों पर डालने कि हिम्मत किसी ने दिखाई नहीं।

न्यूज 18 की खबर के अनुसार, हमें किसी पर ओरोप नहीं लगाना है, जो मन में आया वो सहज कह दिया। मुसलमानों के संबध में ओर क्या कहें! विशिष्ट प्रकार के मस्जिदों में कट्टर शक्तियों को भारी अर्थपूर्ति होती ही है।

केरल, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश के मंदिरो मे काफी संपत्ति और सोना है। इसे हिंदुओं के सभी देवताओं को गुनहगार बताकर ‘धर्मनिरपेक्षवाद’ का झाझ बजाया जाएगा। क्योंकि ‘नोटबंदी’ के बाद जो काले धन के विरुद्ध लड़ाई शुरू हुई उसका सबसे ज्यादा फटका हिंदुओं को ही लग रहा है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here