आज फिर बढ़ गए पेट्रोल-डीजल के दाम, आसमान छूती कीमतों पर शिवसेना ने PM मोदी के ‘अच्छे दिन’ के वादे पर ली चुटकी

1

पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के बीच केंद्र और राज्य में मुख्य सहयोगी शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘अच्छे दिन’ के वादे पर चुटकी ली है। शिवसेना ने अपनी सहयोगी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से कहा कि कहा कि अगर वह जनता के लिए ‘अच्छे दिन’ नहीं ला सकते, तो कम से कम ईंधन के दामों को कम करके लोगों के जीवन में स्थिरता ही ला दे।

शिवसेना

शिवसेना ने दावा किया कि पेट्रोल पंपों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगाने के लिए कहा गया है। प्रधानमंत्री की तस्वीर के साथ राजग सरकार के शासन में ईंधन के बढ़ते दामों का विवरण भी लगाया जाना चाहिए। शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में लिखा है कि सरकार ईंधन की बढ़ती कीमतों पर नियंत्रण करने में सक्षम नहीं है। हाल ही में जब पेट्रोल के दाम अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर चले गए थे, तो केंद्र सरकार ने इसमें हस्तक्षेप किया था।

लेकिन लोगों की खुशियां कुछ समय तक ही रहीं। उसके बाद ईंधन के दाम दोबारा बढ़ गए। सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि वह माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में पेट्रोल-डीजल के दामों को नहीं ला रही है। इसलिए अब पेट्रोल और डीजल इतने महंगे हो जाएंगे कि लोगों के लिए सपने जैसे हो जाएंगे।

आपको बता दें कि देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी रुकने का नाम नहीं ले रही है। राजधानी दिल्ली और दूसरे शहरों में डीजल का दाम अब तक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। गुरुवार (30 अगस्त) को दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 12 पैसे बढ़कर 78.30 रुपये प्रति लीटर पहुंच गई है। वहीं, गुरुवार को डीजल की कीमतों में 18 पैसे की बढ़ोत्तरी हुई है। इंडियन ऑयल कंपनी के अनुसार दिल्ली एनसीआर में एक लीटर डीजल के लिए आपको 69.93 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं।

सबसे महंगा डीजल मुंबई में है। मुंबई में डीजल 19 पैसे बढ़कर 74.24 प्रति लीटर की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है। मुंबई में यह 86 का आंकड़ा पार करने के करीब है। यहां पेट्रोल के लिए लोगों को 85.72 प्रति लीटर चुकाना पड़ रहा है। वहीं कोलकाता में पेट्रोल की कीमत 81.23 रुपये और चेन्नई में 81.35 रुपये प्रति लीटर है। कोलकाता में डीजल 72.78 रुपये प्रति लीटर और चेन्नई में यह 73.88 रुपये का मिल रहा है। इसके साथ ही इसने नए र‍िकॉर्ड स्तर को छू लिया है।

गौरतलब है कि एक पखवाड़े के भीतर पेट्रोल, डीजल के दाम करीब करीब एक रुपया प्रति लीटर बढ़कर नई ऊंचाई पर पहुंच चुके हैं। हालांकि, सरकार को उम्मीद है कि कच्चे तेल की वैश्विक कीमतों की तेजी अल्पकालिक होगी और जल्दी ही इनमें गिरावट आएगी। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘मेरा मानना है कि तेल की कीमतों में तेजी अस्थाई है।’’ उन्होंने कहा कि इनमें उतार-चढ़ाव देखा जाता रहा है।

गर्ग ने समाचार एजेंसी पीटीआई/भाषा से कहा, ‘‘कच्चा तेल 70 डॉलर प्रति बैरल तक गिर गया था लेकिन यह पुन: 74-75 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है। यह तेजी अल्पकालिक होनी चाहिए। कुछ देशों में उम्मीद के अनुरूप उत्पादन हो पाने की वजह से यह हुआ है अत: मेरा अनुमान है कि यह अल्पकालिक है। हम जल्दी ही 70-71 डॉलर प्रति बैरल पर होंगे।’’

इस सप्ताह डीजल अपने पिछले सर्वकालिक उच्च स्तर को पार कर गया है। हालांकि, पेट्रोल के दाम ने अभी अपने सर्वकालिक उच्च स्तर को पार नहीं किया है। ईंधन कीमतों में 16 अगस्त के बाद लगातार तेजी देखी जा रही है। डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट की वजह से भी इसमें तेजी बन रही है।

Pizza Hut

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here