शीला दीक्षित के ‘विकास मॉडल’ से केजरीवाल सरकार को घेरेगी कांग्रेस, ब्लॉक स्तर पर शुरू होगा जनसंपर्क अभियान

0

लोकसभा चुनाव से पहले सभी राजनीतिक पार्टियाँ अपने-अपने तरीके से तैयारियों में जुट गई है। आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस के बीच गठबंधन की सभी संभावनाएं शुक्रवार को खत्म हो गई। AAP नेता गोपाल राय ने कहा है कि वह किसी से गठबंधन नहीं करेगी और दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में अकेले ही लोकसभा का चुनाव लड़ेगी।

शीला दीक्षित
File Photo: PTI

लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) के अकेले लड़ने की घोषणा के बाद कांग्रेस दिल्ली में अरविंद केजरीवाल सरकार के खिलाफ जल्द ही व्यापक जनसंपर्क अभियान शुरू करने की तैयारी में है। इसके तहत वह पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के ‘विकास मॉडल’ की तुलना केजरीवाल सरकार के प्रदर्शन से करते हुए अपने पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश करेगी।

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, पार्टी सूत्रों का कहना है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनने के बाद शीला दीक्षित संगठन में नयी जान फूंकने के साथ ही पार्टी के खोए हुए आधार को वापस पाने के मकसद से कम कर रही हैं। ऐसी कोशिशों में यह जनसंपर्क अभियान भी शामिल है जो ब्लॉक स्तर पर चलाया जाएगा। सूत्रों का यह भी कहना है कि आप के साथ गठबंधन की संभावना लगभग खत्म हो जाने के बाद शीला केजरीवाल को पूरी ताकत के साथ घेरने की तैयारी में हैं ताकि उस निर्णायक वोट बैंक को फिर से कांग्रेस की ओर खींचा जा सके जो कभी उसकी रीढ़ हुआ करता था।

संगठन और पार्टी के आधार को मजबूत करने के मकसद से ही शीला ने तीनों कार्यकारी अध्यक्षों को दिल्ली के अलग-अलग नगर निगम क्षेत्र की जिम्मेदारी सौंपी है। राजेश लिलोठिया को उत्तरी दिल्ली, देवेंद्र यादव को दक्षिणी दिल्ली और हारून यूसुफ को पूर्वी दिल्ली की जिम्मेदारी सौंपी गयी है।

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश लिलोठिया ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘अब दिल्ली के लोगों के सामने विकास के दो मॉडल हैं। एक मॉडल शीला जी का है जिसमें दिल्ली की पूरी तस्वीर बदल गयी। दूसरा मॉडल केजरीवाल का है जिसमें विकास थम गया है।’ उन्होंने कहा, ‘हम जल्द ही ब्लॉक स्तर पर जाएंगे और जनसंपर्क अभियान के माध्यम से जनता को बताएंगे कि दिल्ली की तरक्की शीला दीक्षित के विकास मॉडल से ही हो सकती है।’ लिलोठिया ने कहा कि पार्टी के आधार को मजबूत करने के मकसद से दिल्ली कांग्रेस की तरफ से शुरू किए जाने वाले सभी कार्यक्रमों के बारे में जल्द घोषणा की जाएगी।

गौरतलब है कि पिछले कुछ महीनों से दिल्ली में कांग्रेस और आप के बीच लोकसभा चुनाव में गठबंधन की संभावना जताई जा रही थी, हालांकि आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने शुक्रवार को कहा, ‘हम दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में अकेले ही चुनाव लड़ेंगे।’

आम आदमी पार्टी (आप) के नेता गोपाल राय कहा कि ‘हमारी पार्टी दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में लोकसभा चुनाव लड़ेगी, हम अकेले चुनाव लड़ेंगे।’ गोपाल राय ने आगे नाराजगी भरे अंदाज में कहा कि ‘कांग्रेस के लिए उसका घमंड राष्ट्रहित से बड़ा है। यह पंजाब के सीएम अमरिंद सिंह और शीला दीक्षित जी के हालिया बयानों से स्पष्ट होता है।’

बता दें कि, पिछले कुछ समय से यह खबर सुर्खियों में बनी हुई है कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी को हराने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस एक साथ आ सकती है। बता दें कि अभी हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी(आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने एक कार्यक्रम में लोगों से कांग्रेस को वोट नहीं देने की अपील की थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here