शीला दीक्षित ने सोनिया गांधी से की मुलाकात, क्या AAP से गठबंधन को लेकर हुई चर्चा?

0

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस के बीच गठबंधन की सभी संभावनाएं लगभग खत्म हो गई। इसी बीच, दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस से दिल्ली की अध्यक्ष शीला दीक्षित ने शनिवार को पार्टी की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी से मुलाकात की और इस बात को खारिज कर दिया कि मुलाकात के दौरान सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) के साथ गठबंधन के मुद्दे पर किसी तरह की चर्चा हुई।

शीला दीक्षित
फाइल फोटो

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, सूत्रों ने कहा कि दिल्ली में आप के साथ गठबंधन के मुद्दे पर बैठक के दौरान चर्चा हुई। इस बैठक के बाद शीला दीक्षित से जब पूछा कि क्या सोनिया गांधी के साथ मुलाकात के दौरान गठबंधन का मुद्दा उठा था, उन्होंने कहा, “राहुल गांधी के साथ मुलाकात के बाद हुआ फैसला (आप के साथ गठबंधन के खिलाफ) अब भी बरकरार है।”

भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक एआईसीसी सूत्रों ने कहा, “सोनिया गांधी और दीक्षित के बीच मुलाकात के दौरान गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा हुई और सोनिया ने उनसे कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच मतों के विभाजन से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के लिए चुनावों में जीत का रास्ता बनने के परिणाम पर विचार करने को कहा।”

दिल्ली कांग्रेस की नेता ने दोनों नेताओं के बीच मुलाकात के दौरान गठबंधन पर किसी तरह की बातचीत को खारिज किया था। दिल्ली कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष देवेंद्र यादव ने कहा, “शीला जी सोमवार को प्रस्तावित हमारे बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन के लिये सोनिया गांधी को निमंत्रण देने गई थीं और यह एक अफवाह है कि गठबंधन पर चर्चा हुई जिसे पहले ही खारिज किया जा चुका है।”

कांग्रेस की दिल्ली इकाई के एक और कार्यकारी अध्यक्ष राजेश लिलौठिया ने कहा कि सोनिया गांधी पहले ही कह चुकी हैं कि पार्टी से संबंधित मसलों पर पार्टी अध्यक्ष फैसला लेंगे। उन्होंने कहा, “ऐसी स्थिति में वह गठबंधन के मुद्दे पर कैसे राहुल गांधी के विरोधाभासी कुछ कह सकती हैं।”

कांग्रेस अहंकारी हो गई है: केजरीवाल

दिल्ली में अपने दम पर चुनाव लड़ने के कांग्रेस के ऐलान के बाद मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी(आप) के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को पार्टी को ‘अहंकारी’ करार देते हुए दावा किया कि चुनाव में उसके उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो जाएगी।

मुस्तफाबाद में एक जनसभा में केजरीवाल ने दावा किया कि उनकी पार्टी ने कांग्रेस को गठबंधन करने के लिए राजी करने का प्रयास किया लेकिन वह नहीं समझ पायी। उन्होंने दावा किया, ‘कांग्रेस लोकसभा चुनाव में दिल्ली में अपनी जमानत गंवा बैठेगी।’

बता दें कि, पिछले कुछ समय से यह खबर सुर्खियों में बनी हुई है कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी को हराने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस एक साथ आ सकती है। अभी हाल ही में आप के साथ गठबंधन के सवाल पर कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा था कि हाई कमान जो भी निर्णय लेगा वह हमें स्वीकार होगा। बता दें कि शीला दीक्षित दिल्ली की तीन बार सीएम रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here