राजधानी में बिजली-पानी की समस्याओं पर शीला दीक्षित ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से की मुलाकात

0

दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने बुधवार (12 जून) को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात करके राजधानी में बिजली और पानी की दिक्कतों को लेकर बातचीत की। दीक्षित दिल्ली कांग्रेस नेताओं के साथ सीएम केजरीवाल से मिलीं और बिजली और पानी को लेकर राजधानी के लोगों को हो रही दिक्कतों से अवगत कराया।

रिपोर्ट के मुताबिक, शीला दीक्षित ने सीएम केजरीवाल से मांग की है कि आम आदमी पार्टी सरकार अगले 6 महीने तक दिल्ली के बिजली उपभोक्ताओं से बिजली बिल ना वसूले। इससे पहले शीला ने सोमवार को केजरीवाल से मुलाकात का समय मांगा था, लेकिन केजरीवाल ने मुलाकात के लिए आज यानी बुधवार का समय दिया था।

दीक्षित के नेतृत्व में कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल सीएम केजरीवाल से मिलने पहुंचा था। प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस की तरफ से शीला दीक्षित तीनों कार्यकारी अध्यक्ष हारुन यूसुफ, राजेश लिलोठिया और किरण वालिया मौजूद थे। मुलाकात के बाद पूर्व ऊर्जा मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हारुन यूसुफ ने बताया कि बिजली बिलों के फिक्स चार्ज और पेयजल किल्लत पर अरविंद केजरीवाल से बात हुई।

हारून यूसुफ ने कहा कि हमने मुख्यमंत्री को कहा है कि जिस तरह से फिक्स चार्ज बढ़ाए गए और उनके मंत्री कहते हैं कि यह फिक्स चार्ज हम लोग वापस इसलिए नहीं ले पा रहे थे, क्योंकि चुनाव आचार संहिता लगी हुई थी। मेरा आम आदमी पार्टी सरकार से यह सवाल है कि अगर आचार संहिता लगी हुई थी तो वह तो अभी कुछ समय की ही थी जबकि फिक्स चार्ज तो बीते 1 साल से वसूल किया जा रहा है। जबकि आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार का दावा है कि दिल्ली में कांग्रेस सरकार के मुकाबले पहले ही सस्ती बिजली दी जा रही है।

तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं श्रीमती दीक्षित ने पिछले सप्ताह एक प्रेस कॉन्फेंस में आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार पर तय प्रभार के माध्यम से बिजली कंपनियों को मोटा लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि बिजली कंपनियों ने 7401 करोड़ की राशि विभिन्न तय प्रभारों के तहत वसूली है और इस राशि को समायोजित करने के लिए राजधानी के बिजली उपभोक्ताओं से अगले छह माह तक विद्युत बिलों को माफ किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here