नीतीश उठा रहे है बिहार के लिये ऐतिहासिक कदम: शत्रुघ्न सिन्हा

0

पटना साहिब से भाजपा सांसद और अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जदयू के अध्यक्ष निर्वाचित होने पर शुभकामनाए दी। रविवार को इस पर बोलते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उन्हें बेहद खुशी है कि नीतीश कुमार जी जदयू के अध्यक्ष निर्वाचित हुए है, उन्होंने प्रगतिशील नीतियां अपनाकर ये लोकप्रियता हासिल की है।

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि पार्टी द्वारा उन्हें अध्यक्ष बनाया जाना एक अदंरूनी मामला है लेकिन वह सही समय पर अपनी पार्टी के अध्यक्ष बने है। हम राष्ट्रीय स्तर पर राजनीति में उनकी भूमिका को लेकर आशन्वित है। इससे पहले भी बिहार में शराबबंदी को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का ऐतिहासिक कदम बताया था।

Also Read:  पहली बार सेक्स के दौरान लड़कियों को लगाता इस बात का डर

बिहार के विधानसभा चुनाव को दौरान अपनी पार्टी द्वारा दरकिनार कर दिए गए शत्रुघ्न सिन्हा के ऐसे बयान अब हैरान नहीं करते है। जबकि भाजपा को इसे लेकर बड़ी फजीहत झेलनी पड़ती हैं।

कुछ दिन पहले ही पटना में अपनी पुस्तक एनिथिंग बट खामोश के लोकार्पण के दौरान भी नीतीश और लालू की उपस्थिति और भाजपा के स्थानीय नेताओं तक की अनुपस्थिति शत्रुघ्न और नीतीश-लालू की जबरदस्त प्रगाढ़ता को जाहिर तो करती है हालांकि शत्रुघ्न सिन्हा ने स्पष्ट कर दिया है कि भाजपा उनके लिये पहला और आखिरी दल है।

Also Read:  सियासत का अखाड़ा बनती अयोध्या

पटना साहिब से भाजपा सांसद और अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जदयू के अध्यक्ष निर्वाचित होने पर शुभकामनाए दी। रविवार को इस पर बोलते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उन्हें बेहद खुशी है कि नीतीश कुमार जी जदयू के अध्यक्ष निर्वाचित हुए है, उन्होंने प्रगतिशील नीतियां अपनाकर ये लोकप्रियता हासिल की है।

पार्टी द्वारा उन्हें अध्यक्ष बनाया जाना एक अदंरूनी मामला है लेकिन वह सही समय पर अपनी पार्टी के अध्यक्ष बने है। हम राष्ट्रीय स्तर पर राजनीति में उनकी भूमिका को लेकर आशन्वित है। इससे पहले भी बिहार में शराबबंदी को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का ऐतिहासिक कदम बताया था।

Also Read:  भारत ने संयुक्त राष्ट्र में कहा- तालिबान नेता को आतंकी घोषित नहीं किया जाना एक 'रहस्य'

बिहार के विधानसभा चुनाव को दौरान अपनी पार्टी द्वारा दरकिनार कर दिए गए शत्रुघ्न सिन्हा के ऐसे बयान अब हैरान नहीं करते है। जबकि भाजपा को इसे लेकर बड़ी फजीहत झेलनी पड़ती हैं। कुछ दिन पहले ही पटना में अपनी पुस्तक ‘एनिथिंग बट खामोश’ के लोकार्पण के दौरान भी नीतीश और लालू की उपस्थिति और भाजपा के स्थानीय नेताओं तक की अनुपस्थिति शत्रुघ्न और नीतीश-लालू की जबरदस्त प्रगाढ़ता को जाहिर तो करती है हालांकि शत्रुघ्न सिन्हा ने स्पष्ट कर दिया है कि ‘भाजपा उनके लिये पहला और आखिरी दल है’।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here