IPL 2019: ‘मांकड़िंग’ विवाद पर भड़के शेन वार्न, कहा- ‘अश्विन की हरकत शर्मनाक और निंदनीय’, पंजाब के कप्तान ने दी सफाई, जानें क्या है पूरा मामला

0

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैच में सोमवार (25 मार्च) को किंग्‍स इलेवन पंजाब के कप्‍तान रविचंद्रन अश्विन ने  राजस्‍थान रॉयल्‍स के बल्‍लेबाज जोस बटलर को मांकड अंदाज में रनआउट करके एक नए विवाद को जन्‍म दे दिया है। आस्ट्रेलिया के महान स्पिनर और राजस्थान रायल्स के ब्रांड दूत शेन वार्न ने जोस बटलर को मांकड़िंग करने वाले अश्विन की कड़ी निंदा करते हुए उनकी हरकत को शर्मनाक और खेलभावना के विपरीत करार दिया है।

@IPL

बता दें कि किंग्स इलेवन पंजाब और राजस्थान रॉयल्स के बीच जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में सोमवार को मैच के दौरान बटलर आईपीएल के इतिहास में ‘मांकड़िंग’ के शिकार होने वाले पहले बल्लेबाज बने।  वार्न ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘बतौर कप्तान और बतौर इंसान अश्विन ने निराश किया। सभी कप्तान आईपीएल को खेलभावना से खेलने के करार पर हस्ताक्षर करते हैं। उस समय अश्विन गेंद डालने नहीं जा रहे थे तो वह डैड गेंद होती। अब बीसीसीआई को देखना है, क्योंकि इससे आईपीएल की अच्छी छवि नहीं बन रही।’’

उन्होंने सिलसिलेवार किए गए अपने ट्वीट में आगे लिखा, ‘‘अश्विन की हरकत शर्मनाक थी और मैं उम्मीद करता हूं कि बीसीसीआई इस तरह का बर्ताव बर्दाश्त नहीं करेगा।’’ उन्होंने लिखा ,‘‘टीम के कप्तान होने के नाते आपको मिसाल बनना चाहिए कि टीम कैसे खेले। इस तरह की शर्मनाक और गिरी हुई हरकत करने की क्या जरूरत थी। अब माफी मांगने का समय भी निकल चुका है। आप इस हरकत के लिए याद रखे जाओगे।’’

क्रिकेट के नियमों के संरक्षक मेरिलबोन क्रिकेट क्लब ने 2017 में दूसरे छोर पर खड़े बल्लेबाज को गेंदबाज द्वारा रन आउट करने के नियमों में काफी बदलाव किए। इसके तहत गेंद डालने से पहले गेंदबाज दूसरे छोर पर खड़े बल्लेबाज को रन आउट कर सकता है। वार्न ने कहा ,‘‘पूर्व क्रिकेटर जो कह रहे हैं कि यह नियम के दायरे में था, लेकिन उन्हें यह पसंद नहीं आया या वे ऐसा नहीं करते। तो मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि वे ऐसा क्यो नहीं करते क्योंकि यह शर्मनाक और निंदनीय होने के साथ खेलभावना के विपरीत भी है।’’

वार्न ने भारत और रायल चैलेंजर्स बेंगलोर के कप्तान विराट कोहली को भी टैग करते हुए पूछा कहा यदि कोहली को इंग्लैंड के बेन स्टोक्स ऐसे आउट करते तो क्या लोग उसका समर्थन करते।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बेन स्टोक्स यदि कोहली के साथ ऐसा करता तो मुझे अचरज नहीं होता। लेकिन मुझे लगा कि अश्विन अलग है। किंग्स इलेवन पंजाब ने आज रात कई प्रशंसक खो दिए। खासकर युवा लड़के लड़कियां। उम्मीद है कि बीसीसीआई कुछ करेगा।’’

वहीं, इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकन वान ने लिखा, ‘‘मैं अश्विन की हरकत का समर्थन करने वाले क्रिकेट पंडितों और भारत के पूर्व खिलाड़ियों से पूछना चाहता हूं कि यदि कोहली बल्लेबाजी पर होता तो भी क्या आप इसका समर्थन करते?’’

अश्विन ने दी सफाई

हालांकि, अश्विन को बटलर को ‘मांकड़िंग’ आउट करने का कोई मलाल नहीं है और उन्होंने कहा कि यह फैसला उन्होंने अनायास लिया और अगर यह खेल भावना के विपरीत है तो क्रिकेट के नियमों पर पुनर्विचार होना चाहिए। अश्विन ने मैच जीतने के बाद कहा, ‘‘यह अनायास लिया गया फैसला था। यह सोच समझकर नहीं किया गया। यह नियम के दायरे में था। मुझे समझ में नहीं आता कि खेल भावना का मसला बीच में कहां से आया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह नियमों में है। शायद हमें नियमों पर पुनर्विचार करना होगा।’’

उन्हें याद दिलाया गया कि वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान कर्टनी वाल्श ने लाहौर में 1987 विश्व कप के अहम मैच में इस तरह के हालात में पाकिस्तान के सलीम जाफर को बख्श दिया था। इस पर अश्विन ने तीखी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, ‘‘उस समय ना तो मैं खेल रहा था और ना ही बटलर। ऐसे में यह तुलना बेमानी है।’’ इस पर भी बहस हो रही है कि क्या अश्विन ने जान बूझकर गेंद लोड करने में विलंब किया।

अश्विन ने कहा,‘‘मैने गेंद लोड भी नहीं की थी और वह क्रीज से बाहर आ गया। यह क्रीज का मेरा हाफ है और मेरा हमेशा से यही मानना रहा है।’’ पंजाब के कप्तान ने यह भी कहा कि बल्लेबाज को इस तरह के मैच की तस्वीर बदलने वाले पलों में क्रीज जल्दी छोड़ने से बचना चाहिए। उन्होंने कहा,‘‘हमने कोई गलती नहीं की। लेकिन मेरा मानना है कि ये मैच का रूख बदलने वाले पल है और बल्लेबाज को एहतियात बरतनी चाहिए।’’

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान अश्विन ने सोमवार की रात के मैच में राजस्थान रायल्स के बटलर को मांकड़िंग करके बड़े विवाद को जन्म दे दिया। इंडियन प्रीमियर लीग के 12 साल के इतिहास में इस तरह आउट होने वाले बटलर पहले खिलाड़ी बने। बटलर सोमवार को उस समय 43 गेंद में 69 रन बनाकर खेल रहे थे, जब अश्विन ने उन्हें चेतावनी दिए बिना मांकड़िंग से आउट किया। उस समय रायल्स जीत की ओर बढती नजर आ रही थी, लेकिन बटलर के आउट होने के बाद मैच का रूख बदल गया और टीम 14 रन से हार गई।

वीनू मांकड़ के नाम पर इसे मांकड़िंग कहा जाता है, क्योंकि उन्होंने आस्ट्रेलिया के खिलाफ 1947 में सबसे पहले इसका इस्तेमाल किया था। इसमें गेंदबाज अगर गेंद डालने से पहले दूसरे छोर पर खड़े बल्लेबाज के क्रीज से बाहर होने पर गिल्लियां बिखेर देता है तो उसे रन आउट माना जाता है। यह खेल के नियमों के दायरे में है, लेकिन इसे खेलभावना के विपरीत माना जाता है। टीवी रिप्ले में दिख रहा था कि अश्विन ने गिल्लियां बिखेरने से पहले बटलर के क्रीज से बाहर निकलने का इंतजार किया। (इनपुट- पीटीआई/भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here