शहाबुद्दीन की ज़मानत के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में नई याचिका दायर

0

आरजेडी के विवादास्पद नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन को मिली जमानत के खिलाफ एक महिला ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. जिस मामले में शहाबुद्दीन को जमानत मिली है, उसमें उसे पहले ही उम्रकैद की सजा दी जा चुकी है.

जमानत रद्द करने की मांग करने वाली याचिका दायर करने वाली महिला के तीन युवा बेटों को शहाबुद्दीन के एक वफादार ने बर्बरता से मौत के घाट उतार दिया था. महिला के दो बेटों की हत्या के चश्मदीद तीसरे बेटे को बाद में कथित तौर पर शहाबुद्दीन की शह पर मारा गया था. महिला ने पटना हाईकोर्ट के उस फैसले को चुनौती दी है, जिसमें अदालत ने शहाबुद्दीन को अपील लंबित रहने के दौरान स्थायी जमानत दी थी.

Also Read:  वीडियोग्राफी मामला: 'AAP' सांसद भगवंत मान शीतकालीन सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित

सिवान की सत्र अदालत ने दोहरे हत्याकांड में शहाबुद्दीन को फिरौती के लिए अपहरण और हत्या का दोषी पाया था और उसे उम्रकैद की सजा दी थी, जबकि चश्मदीद युवक की मौत के मामले में मुकदमा चल रहा है.

भाषा की खबर के अनुसार,कलावती देवी ने अपनी याचिका में दावा किया है कि उच्च अदालत ने इस तथ्य पर ‘जरा भी गौर नहीं किया’ है कि शहाबुद्दीन एक खतरनाक अपराधी है, जिसे कानून की जरा भी परवाह नहीं है. इसमें आगे कहा गया है कि हत्या, अपहरण जैसे गंभीर अपराधों के दोषी को जमानत दे दी गई, जबकि उसके खिलाफ कई और मामलों में मुकदमे अभी चल ही रहे हैं, यह तो न्याय का उपहास करने के समान है.’

Also Read:  Shahabuddin out of jail after 11 yrs, takes a swipe at Nitish

कलावती के पति चंद्रकेश्वर प्रसाद की ओर से दायर एक अलग याचिका में 19 सितंबर को शीर्ष अदालत ने शहाबुद्दीन से जवाब मांगा था. इस याचिका में प्रसाद ने अपने तीसरे बेटे की हत्या के मामले में पटना हाईकोर्ट की ओर से शहाबुद्दीन को दी गई जमानत को चुनौती दी थी.

Also Read:  JDU-RJD get 100 seats each, Congress 40. Big Swabhiman Rally in Patna on 30 August

इसके अलावा शीर्ष अदालत मारे गए पत्रकार राजदेव रंजन की पत्नी की ओर से दायर मामले को दिल्ली स्थानांतरित करने की याचिका की सुनवाई भी कर रही है. पत्रकार को भी कथित तौर पर शहाबुद्दीन के इशारे पर ही मारा गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here