सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें जल्दी ही लागू की जा सकती हैं, सचिवों की समिति ने रिपोर्ट सौंपी

0

सरकार सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा जल्दी ही कर सकती है। इससे करीब एक करोड़ सरकारी कर्मचारियों तथा पेंशनभोगियों के वेतन-भत्तों व पेंशन में कम-से-कम 23.5 प्रतिशत की वृद्धि होने का अनुमान है।

पीटीआई भाषा की एक रिपोर्ट के अनुसार, वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि मंत्रिमंडल सचिव पी के सिन्हा की अध्यक्षता वाली समिति ने वेतन आयोग की सिफारिशों पर अपनी रपट दे दी है। समिति की रपट के आधार पर वित्त मंत्रालय मंत्रिमंडल के विचारार्थ नोट तैयार कर रहा है और उसे मंजूरी के लिए 29 जून : परसों तक भी : को मंजूरी के लिये मंत्रिमंडल के समक्ष रखा जा सकता है।

Arun-Jaitley-PTI1
वित्त सचिव अशोक लवासा ने आज यहां कहा, ‘‘सचिवों की समिति ने वेतन आयोग की सिफारिशों पर अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप दे दिया है..हम जल्दी ही रिपोर्ट के आधार पर मंत्रिमंडल नोट का मसौदा जारी करेंगे।’’ सरकार ने सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों पर गौर करने के लिये जनवरी में मंत्रिमंडल सचिव की अध्यक्षता में एक उच्च अधिकार प्राप्त समिति गठित की थी। इसके लागू होने से करीब केंद्र सरकार के 50 लाख कर्मचारियों तथा 58 लाख पेंशनभोगियों को लाभ होगा।

वेतन आयोग ने वेतन-भत्तों तथा पेंशन में में 23.55 प्रतिशत वृद्धि की सिफारिश की थी। इससे सरकारी खजाने पर 1.02 लाख करोड़ रपये या जीडीपी का करीब 0.7 प्रतिशत का बोझ पड़ेगा।

समिति ने मूल वेतन में 14.27 प्रतिशत वृद्धि की सिफारिश की है जो 70 साल में सबसे कम है। इससे पहले, छठे वेतन आयोग ने 20 प्रतिशत वृद्धि की सिफारिश की थी जिसे सरकार ने 2008 में क्रियान्वयन के समय दोगुना कर दिया था।

LEAVE A REPLY