नोटबंदी एंथम गाने वाले इस ऐक्टर को मिली सुरक्षा, देखिए वीडियो

0

8 नवंबर 2016 को रात आठ बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन पर लगाम लगाने के लिए 1000 और 500 रुपये के नोट को बंद करने की घोषणा की थी। इस महीने 8 नवंबर को नोटबंदी के एक साल हो गए। इस बीच सोशल मीडिया पर एक गाना तेजी से वायरल हो रहा है, जिसे चेन्नई के एक्टर सिलाम्बरासन ने गाया है। उनका यह गाना नोटबंदी और जीएसटी पर चुटकी लेता है।

सिलाम्बरासन

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक, इसी वजह से अब चेन्नई की पुलिस ने उन्हें उनके टी नगर वाले घर में राइट विंग (दक्षिणपंथी) के कार्यकर्ता के विरोध की आशंका के चलते पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई है। ख़बर के अनुसार, आठ पुलिसवालों को एक्टर के घर के बाहर तैनात किया गया है।

Also Read:  सर्जिकल स्ट्राइक: पीओके के चश्मदीदों ने बताया आंखों देखा हाल, उस दिन सुने धमाके, लाशें ले जाते देखा

टी नगर पुलिस स्टेशन के एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि उन्हें एक्टर की तरफ से किसी तरह की कोई शिकायत नहीं मिली है और ना ही उन्होंने पुलिस सुरक्षा की मांग की है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि सिलाम्बरासन के घर के बाहर एक बीट ऑफिसर को तैनात किया गया है और पैट्रोलिंग की जा रही है।

एक्टर सिलाम्बरासन ने तमिल में नोटबंदी पर गाना थाटरोम थूकरोम गाया है। यह गाना बुधवार को यूट्यूब पर रिलीज किया गया था, जो अब सोशल मीडिया पर जेती से वायरल हो रहा है। इस गाने के बोल कबिलान वैरा मुत्थू ने लिखे हैं।

Also Read:  जांच के घेरे में आए मनीष सिसोदिया पर कुमार विश्वास ने कहा CBI नामक तोते का इस्तेमाल कर रही है केंद्र सरकार

आप भी सुनिए यह गाना:

बता दें कि, इससे पहले एक ओर गाना सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था। इस गाने में नोटबंदी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषणों सहित वित्त मंत्री अरुण जेटली और अंबानी-अडानी को लेकर तंज कसा गया गया है। इस गाने का शीर्षक है “बार बार फेंकों: नोटबंदी के बाद का भारत।”

गौरतलब है कि पिछले साल 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक 500 और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य घोषित कर दिया था। जिसके बाद आम जनता को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था, नोटबंदी के दौरान लोगों को करीब 50 दिन तक लंबी कतारों में लगना पड़ा था।

Also Read:  मुरादाबाद के थानेदार सिराजुद्दीन ने पेश की मिसाल, घटों लाइन में लगकर बदले नोट

सरकार ने दावा किया था कि इससे कालेधन में कमी आएगी लेकिन 30 अगस्त को जारी की गई 2016-17 की अपनी सालाना रिपोर्ट में आरबीआई ने कहा था कि बैन किए गए 500 और 1000 रुपये के नोटों का 99 फीसदी (15.28 लाख करोड़) बैंकिंग सिस्टम में वापस आ चुका है। इस रिपोर्ट के बाद विपक्ष लगातार सरकार पर सवाल उठा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here