मध्य प्रदेश: छेड़छाड़ से परेशान होकर 10वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी

0

देश में कड़े कानून बनने के बावजूद भी मध्य प्रदेश में मासूम बच्चियों और महिलाएं से रेप व छेड़छाड़ की घटनाएं रुकने का नाम ही नहीं ले रहीं है, जिसका ताजा मामला एक बार फिर से देखने को मिला है। पिछले कुछ दिनों से राज्य के अलग-अलग शहरों में लड़कियों से गैंगरेप और रेप की खबरों के बीच इंदौर से एक और शर्मसार कर देने वाली खबर सामने आई है, जो राज्य सरकार पर कई सवाल खड़े कर रहीं है।

प्रतिकात्मक फोटो

समाचार एजेंसी आईएएनएस के हवाले से एक न्यूज़ वेबसाइट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, यहां छेड़छाड़ से पीड़ित 10वीं की छात्रा ने फांसी के फंदे से लटकर जान दे दी। मामला द्वारका थाना क्षेत्र का है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार द्वारका थाना क्षेत्र के प्रजापत नगर की नाबालिग छात्रा ने गुरुवार रात घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मौके से एक सूइसाइड नोट बरामद किया है, जिसमें छात्रा ने एक युवक द्वारा परेशान किए जाने का जिक्र किया है।

सूइसाइड नोट में लिखा है कि आरोपी सोशल साइट्स पर बदनाम करने की धमकी देकर ब्लैकमेल कर रहा था। परिजनों के अनुसार, आरोपी की थाने में भी शिकायत की गई लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। आरोपी मिलन ने कुछ तस्वीरें भी वॉट्सऐप पर वायरल कर कर दी थीं, जिससे परेशान होकर छात्रा ने यह कदम उठाया।

पुलिस उप महानिरीक्षक हरिनारायण चारी मिश्रा ने बताया कि द्वारका थाने के सब इंस्पेक्टर ओमकार सिंह कुशवाहा को निलंबित कर दिया गया है और मामले की जांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को सौंपी गई है।

गौरतलब है कि, मंदसौर जिले में सात वर्षीय बच्ची के साथ हुई सामूहिक बलात्कार की वारदात के बाद सतना जिले में एक चार साल की मासूम बच्ची के साथ रेप की घटना सामने आई है। रेप की शिकार हुई चार साल की मासूम बच्ची की हालत में तेजी से सुधार के लिए उसे बेहतर इलाज के लिए मंगलवार को एयर एंबुलेंस के जरिये दिल्ली लाया गया और एम्स में भर्ती कराया गया। इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

बता दें कि, उससे पहले मंदसौर में सात वर्षीय स्कूली छात्रा को गैंगरेप का शिकार बनाया गया था। स्कूल की छुट्टी के बाद घरवालों का इंतज़ार कर रही बच्ची का अपहरण कर लिया गया था। आरोपियों ने रेप के बाद बच्ची को मारने की कोशिश की थी और फिर उसे मरा समझकर झाड़ियों में फेंककर भाग गए थे। पीड़ित बच्ची मंदसौर से करीब 200 किलोमीटर दूर इंदौर के एमवायएच में 27 जून की रात से भर्ती है। पुलिस इस केस में कार्रवाई करते हुए दो आरोपी इरफान और आसिफ को गिरफ़्तार किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here