देशभक्ति का पाठ पढ़ाने के लिए BJP सरकार का फरमान, गुजरात के स्कूलों में अब हाजिरी के समय ‘यस सर’ और ‘प्रजेंट सर’ की जगह बच्चों को बोलना होगा ‘जय हिंद’ या ‘जय भारत’

0

गुजरात की भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार ने स्कूल के बच्चों को ‘जय हिंद’ और ‘जय भारत’ के नारे लगाने का फरमान सुना दिया है। जी हां, गुजरात में स्कूली बच्चों को देशभक्ति का पाठ पढ़ाने के लिए हाजिरी की प्रक्रिया में बदलाव पर विचार किया जा रहा है। जल्द ही स्कूलों में बच्चे हाजिरी लगाए जाने के समय ‘हाजिर हैं’, ‘जी सर’, ‘यस सर’ और ‘प्रेजेंट सर’ जैसे संबोधनों की जगह ‘जय भारत’ या ‘जय हिंद’ बोलते नजर आएंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, देशभक्ति को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा विभाग की ओर से एक जनवरी को जारी अधिसूचना में यह कहा गया है।

गायत्री मंत्र
प्रतिकात्मक फोटो

सरकार का मानना है कि ऐसा करने से स्कूली बच्चों में देशभक्ति की भावना बढ़ेगी। अभी के संबोधनों से बच्चों पर सकारात्मक बदलाव देखने में नहीं मिलता है। शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा ने कहा कि वर्तमान व्यवस्था बदलने पर विचार किया जा रहा है। जीसीईआरटी के निदेशक टीएस जोशी ने कहा कि कुछ स्कूलों में इस तरह के प्रयोग हो रहे हैं।राजस्थान के झालोद में शिक्षक संदीप जोशी ने हाजिरी के वक्त संबोधन में बदलाव किया था। उन्होंने यस सर, प्रेजेंट सर की जगह बच्चों से जय हिंद, जय भारत बुलवाना शुरू किया था।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, प्राथमिक शिक्षा निदेशालय और गुजरात माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (GSHSEB) की ओर से जारी की गई अधिसूचना में कहा गया है कि कक्षा 1 से 12 तक के छात्रों हाजिरी लगाने के लिए ‘यह हिंद’ या ‘यह भारत’ बोलना होगा। इस अधिसूचना का सरकारी, सहायता अनुदान और स्व-वित्तपोषित स्कूलों को पालना करना होगा।

इसका एक जनवरी 2019 से पालन करने के लिए कहा गया है। साथ ही अधिसूचना में कहा गया है कि बच्चों में बचपन से ही देशभक्ति बढ़ाने के मकसद से यह फैसला लिया गया है। इसके मुताबिक सोमवार को हुई समीक्षा बैठक में राज्य के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडासमा ने यह फैसला लिया। अधिसूचना की कॉपियों जिला शिक्षा अधिकारियों को भेज दी गई हैं और कहा गया है कि इसका एक जनवरी से पालन किया जाए। मंत्री से बात करने की कई बार कोशिश की गई, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया।

हालही उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में एक ऐसा मामला सामने आया था, जहां एक स्कूल के प्रिंसिपल ने कथित तौर पर छात्रों की सिर्फ इसलिए पिटाई कर दी, क्योंकि उन्होंने इस्लामिक तरीके से अभिवादन न कर गुड मॉर्निंग कह दिया। मामले की जांच में प्रथम दृष्टया दोषी पाए जाने पर प्रिंसिपल को निलंबित कर दिया गया था।

बच्चों ने अधिकारियों से शिकायत की थी कि प्रधानाध्यापक चांद मियां से ‘जब हम लोग गुड मॉर्निंग कहते हैं, तो वह कहते हैं कि हम से ‘अस्सलाम वालेकुम’ कहो’। वहीं, राजस्थान के झालोद में शिक्षक संदीप जोशी ने हाजिरी के वक्त संबोधन में बदलाव किया था। उन्होंने यस सर, प्रेजेंट सर की जगह बच्चों से जय हिंद, जय भारत बुलवाना शुरू किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here